Follow us:

बंगाल हिंसा : ममता ने कहा- बंगाल को गुजरात नहीं बनने दूंगी; भाजपा बोली- दीदी का शासन आंतरिक सुरक्षा के लिए खतरा

ममता ने कहा- चुनाव के बाद हुई हिंसा में तृणमूल के 8 और भाजपा के 2 कार्यकर्ताओं की हत्या हुई

भाजपा नेता विजयवर्गीय ने कहा- बंगाल में बम और पिस्तौल राजनीतिक पार्टियों के हथियार

14 मई को शाह के रोड शो के दौरान झड़प में टूटी विद्यासागर की प्रतिमा का ममता ने दोबारा अनावरण किया

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव के बाद जारी हिंसा के लिए भाजपा और तृणमूल कांग्रेस एक-दूसरे को जिम्मेदार ठहरा रही हैं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को कहा कि राज्य में फैली हिंसा में तृणमूल के 8 और भाजपा के 2 कार्यकर्ता मारे गए। यह दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि भाजपा बंगाल को गुजरात बनाने की कोशिश कर रही है। मैं जेल जाने के लिए तैयार हूं लेकिन यह नहीं होने दूंगी।

उधर, भाजपा महासचिव और बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि बंगाल की तृणमूल कांग्रेस की सरकार देश की आंतरिक सुरक्षा के लिए खतरा है। उन्होंने ममता सरकार कोे बर्खास्त करने की मांग करते हुए कहा कि बंगाल में बम और पिस्तौल, वहां के राजनीतिक दलों के प्रमुख हथियार हैं। नक्सलियों को अवैध हथियार देने वाले गिरोह भी राज्य में काम कर रहे हैं। घुसपैठिए लगातार अंतरराष्ट्रीय सीमापार कर बंगाल में घुस रहे हैं।

ममता ने ईश्वरचंद्र की प्रतिमा का अनावरण किया

ममता बनर्जी ने मंगलवार को कोलकाता के कॉलेज स्ट्रीट और विद्यासागर कॉलेज में ईश्वरचंद्र विद्यासागर की प्रतिमा का अनावरण किया। 4 मई को भाजपा अध्यक्ष के रोड शो के दौरान भाजपा और तृणमूल कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई थी। इसमें विद्यासागर की प्रतिमा टूट गई थी।

मंगलवार को हिंसा में 2 कार्यकर्ताओं की मौत हुई

पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में सोमवार को हुए विस्फोट में 2 लोगों की मौत हो गई। जबकि चार घायल हो गए। उधर, भाजपा का दावा है कि जय श्री राम के नारे लगाने पर तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने उनकी पार्टी कार्यकर्ता की गला दबाकर हत्या कर दी। मृतक समतुल डोलोई (43) का शव सोमवार को सर्पोटा गांव के एक खेत में मिला था। पुलिस ने फिलहाल हत्या के कारणों पर कुछ नहीं कहा है।

‘तृणमूल कार्यकर्ताओं ने की हत्या’

वहीं, उत्तर 24 परगना के सर्पोटा गांव में सोमवार सुबह में खेत में भाजपा कार्यकर्ता का शव मिला। स्थानीय सूत्रों के मुताबिक, डोलोई रविवार रात एक कार्यक्रम में गया था, लेकिन घर वापस नहीं लौटा। गर्दन पर गला दबाने के निशान थे। हावड़ा ग्रामीण के भाजपा अध्यक्ष अनुपम मलिक ने दावा किया कि डोलोई भाजपा समर्थक थे। जय श्री राम के नारे लगाने पर तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने उनकी हत्या कर दी।

तृणमूल कांग्रेस के विधायक समीर पांजा ने इससे इनकार किया है। उन्होंने कहा कि जांच में ही हत्या का कारण स्पष्ट हो पाएगा।

राज्यपाल ने प्रधानमंत्री और गृहमंत्री से की मुलाकात
राज्य में जारी राजनीतिक हिंसा को देखते हुए बंगाल के राज्यपाल केसरी नाथ त्रिपाठी ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की। हालांकि, ममता बनर्जी राज्य में हो रही हिंसक घटनाओं को लेकर भाजपा पर आरोप लगा रहीं हैं।

 

Related News