Follow us:

BHIM और UPI एप से बुक करें रेल टिकट, फ्री ट्रैवल का मिलेगा मौका

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे भी अब डिजिटल भारत की ओर अपने कदम बढ़ा रहा है। ऑनलाइन टिकटिंग को बढ़ावा देने के लिए भारतीय रेलवे ने यात्रियों के लिए नई सुविधा पेश की है। अब यूजर्स भीम एप ओर यूपीआई एप के जरिये रेल टिकट भी बुक करा पाएंगे। इसी के साथ रेलवे ने यात्रियों के लिए एक लकी ड्रा स्कीम की पेशकश भी की है। इसमें 5 यात्रियों को रेल टिकट का पूरा पैसा रिफंड किया जाएगा।


31 मार्च तक चलेगी यह स्कीम

रेलवे की इस स्कीम का फायदा ग्राहक 1 दिसंबर से 31 मार्च तक उठा पाएंगे। रेलवे ने जानकारी देते हुए बताया कि हर महीने भीम और यूपीआई एप से टिकट बुक करने वाले लोगों का लकी ड्रा निकाला जाएगा। विजेता यात्रियों के नाम को रेलवे की वेबसाइट पर पब्लिश किया जाएगा। साथ ही उन्हें फोन और ईमेल के जरिए भी सूचना भेजी जाएगी। इन यात्रियों के टिकट बुकिंग के सारे पैसे रिफंड किए जाएंगे।


कौन नहीं उठा पाएंगे लकी ड्रॉ का फायदा

रेलवे के अनुसार- अगर कोई यात्री भीम और यूपीआई एप सेटिकट बुक करने के बाद कैंसिल कर देता है तो उस यूजर्स को इस लकी ड्रॉ स्कीम का फायदा नहीं मिलेगा। बता दें की 1 दिसंबर से ही रेलवे ने भीम एप और यूपीआई के जरिये पेमेंट स्वीकार करने शुरू किए हैं। इसके लिए यात्रियों को कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं देना होगा।


ऑनलाइन माध्यम से बुक होते हैं 60 प्रतिशत टिकट

वर्तमान समय में 60 फीसद से ज्यादा लोग कैशलेस तरीके से टिकट बुक कराते हैं। दरअसल भारतीय रेलवे लोगों को कैशलेस टिकट बुकिंग के लिए प्रोत्साहित करना चाहता है। 90 प्रतिशत यात्रियों को कैशलेस बनाना रेलवे का टारगेट है। इसी कारण से रेलवे ने भीम और यूपीआई एप से टिकट बुक करने वाले यात्रियों को फ्री में यात्रा करने का ऑफर पेश किया है।


जानें भीप एप पर ट्रेन टिकिट बुकिंग से जुड़ी 10 बातें:

भीम एप अन्य यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (यूपीआई) एप्लीकेशन और बैंक अकाउंट्स के साथ काम करता है। एक वर्ष से कम समय के भीतर भीम एप के जरिए होने वाले लेन-देन की संख्या 2.8 लाख का आंकड़ा पार कर चुकी है।


रेलवे काउंटर पर ट्रेन टिकट बुक करने की सुविधा भीम एप पर 1 दिसंबर, 2017 से लागू कर दी गई है।


रेलवे के मुताबिक यह सुविधा यात्री आरक्षण प्रणाली (पीआरएस) काउंटरों से आरक्षित टिकटों की बुकिंग के लिए और अनारक्षित टिकटिंग सिस्टम (यूटीएस) काउंटरों से सीजनल टिकट (मासिक/त्रैमासिक) के लिए उपलब्ध होगी।


यात्रियों को इस नई ट्रेन टिकट बुकिंग सुविधा के लिए अगले तीन महीने की अवधि तक कोई ट्रांजेक्शन चार्ज (लेनदेन शुल्क) नहीं देना होगा। यात्रियों को रेलवे काउंटर पर अपना यात्रा विवरण साझा करते ही भुगतान करने के लिए किराए की जानकारी प्राप्त हो जाएगी। अगर कोई ग्राहक यूपीआई/भीम एप के माध्यम से भुगतान करने का विकल्प चुनता है, तो काउंटर पर बैठा व्यक्ति यूपीआई के जरिए ही भुगतान स्वीकार करेगा।


टर्मिनल में लेन-देन की शुरुआत करने के लिए रेलवे काउंटर पर बैठा व्यक्ति वर्चुअल पेमेंट एट्रेस (वीपीए) सिस्टम में एंटर करेगा।

यात्रियों को भुगतान की पुष्टि करने के लिए मोबाइल पर भुगतान अनुरोध प्राप्त होगा। यात्री की ओर से भुगतान अनुरोध को स्वीकार करना जरूरी होगा और यात्री के लिंक्ड खाते से किराए की राशि काट ली जाएगी।लेनदेन सफल होने और सिस्टम पर सत्यापित होने के बाद, काउंटर पर बैठा व्यक्ति टिकट प्रिंट करेगा और उसे यात्री को सौंप देगा। डिजिटल/कैशलेस लेनदेन को प्रोत्साहित करने की सरकार की पहल को बढ़ावा देने के अलावा रेलवे काउंटर पर ये नई भुगतान प्रणाली रेलवे सेवाओं का लाभ लेने वाले ग्राहकों को अतिरिक्त भुगतान का विकल्प भी उपलब्ध करवाएगी।


भीम एप का इस्तेमाल करना आसान है और रियल टाइम के आधार पर यह कई बैंकों के माध्यम से भुगतान करने में सक्षम है।