Follow us:

चीन में ब्लैकलिस्टेड ऐप्स की सूची में जुड़ा 'Skype' का नाम

शंघाई। चीन में ब्लैकलिस्टेड ऐप्स की लंबी सूची में अब ऑनलाइन वीडियो कॉलिंग ऐप 'स्काइप' का भी नाम जुड़ गया है। चीनी उपयोगकर्ताओं की मानें तो, लगभग एक सप्ताह से ऐपल स्टोर और एंड्राइड साइट पर डाउनलोड करने के लिए स्काइप उपलब्ध नहीं है। बताया जा रहा है कि चीनी सरकार के आदेश के बाद ऐपल के डाउनलोडिंग स्टोर से स्काइप सहित कुछ ऐप्स को हटा दिया गया है।

ऐपल ने अपने ईमेल द्वारा जारी बयान में कहा है कि चीनी लोक सुरक्षा मंत्रालय के द्वारा हमें सूचना मिली थी कि वीओआईपी (वॉइस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल) जैसे ऐप्स स्थानीय कानून का पालन नहीं करते हैं इसलिए इसे चीन के ऐप स्टोर से हटा लिया जाए। हालांकि व्यापार जगत में ये ऐप्स अभी भी उपलब्ध है। कंपनी ने इस बात का खुलासा नहीं किया है कि ऐप ने किन कानूनों का उल्लंघन किया था।

हालांकि इस बदलाव के पहले डाउनलोड किए गए स्काइप संस्करणों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है। अब इस बड़े बदलाव ने अमेरिकी टेक कंपनियों के सामने बड़ी समस्या खड़ी कर दी है। इसके तहत उन्हें चीनी बाजार के शेयर के साथ ही वहां की वेब स्वतंत्रता के सिद्धांतों पर काम करने की प्रतिबद्धता है।

दूसरी तरफ ऐपल प्रमुख टिम कुक ने कहा, हम ऐप को नहीं हटाते, लेकिन अन्य देशों की तरह जैसे हम उनके कानूनों का पालन करते हैं यहां भी हमें इन कानूनों का पालन करना था। गौरतलब है कि, चीन ने विदेशी वेबसाइटों और फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम समेत कई समाचार संगठनों पर प्रतिबंध लगा दिया है जो चीनी सरकार को चुनौती दे सकते थे।

बता दें कि विदेशी टेक कंपनियों पर प्रतिबंध लगाए जाने के बाद चीनी कंपनी Tencent को अपने व्यापार समृद्ध करने की इजाजत मिल गई है।