Follow us:

शरद पवार का दावा- 'बीजेपी की सरकार बनी तो अटल सरकार की तरह 13 दिनों में गिरेगी'

नई दिल्ली। आखिरी चरण के मतदान और वोटों की गितनी से पहले नई सरकार के गठन को लेकर कयास और बयान का दौर अपने चरम पर है. ताजा बयान सीनियर नेता और एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने दिया है जिसमें मोदी सरकार की विदाई का दावा किया गया है. शरद पवार ने 23 मई के बाद नई सरकार बनने को लेकर बड़ा दावा किया और कहा कि अगर राष्ट्रपति बीजेपी को सरकार बनाने के लिए बुलते भी हैं तो वह सदन में अपना बहुमत सिद्ध नहीं कर सकेगी. शरद पवार ने दावा किया कि अगर मोदी सरकार बनाने में कामयाब हो भी जाते हैं तो उसका वही हस्र होगा जो 1996 में अटल बिहारी वाजपेयी की 13 दिन की सरकार का हुआ था.

हालांकि, शरद पवार ने ये साफ साफ संकेत दिए कि लोकसभा चुनाव नतीजों में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरेगी, लेकिन बहुमत से दूर रहेगी.

21 मई को नॉन बीजेपी सरकार बनने की प्रक्रिया की शुरुआत होगी- पवार

मीडिया से बातचीत में शरद पवार ने त्रिशंकु लोकसभा की स्थिति में हॉर्स ट्रेडिंग की किसी भी गुंजाइश से इनकार करते हुए स्पष्ट किया कि सारे पक्ष एक साथ होंगे. शरद पवार ने कहा, ‘’21 मई को नॉन बीजेपी सरकार बनने की प्रक्रिया की शुरुआत होगी. सभी पक्ष कॉमन मिनिमम प्रोग्राम बनाने के लिए एक साथ आएंगे. सभी विपक्षी दल बैठक कर रहे हैं. उसके बाद हम कोई फैसला करेंगे.’’

शरद पवार ने कहा, ‘’हम सब अलग-अलग लड़े हैं लेकिन हमारी कोशिश पांच सालों तक एक स्थिर सरकार देने की होगी और मेरी जिम्मेदारी इन सभी को साथ रखने की होगी.’’ इस दौरान शरद पवार ने मजाकिया लहजे में कहा कि बीजेपी गलत कह रही है. वह तो 500 सीटें जीतेगी. उन्होंने कहा, ‘’8 महीने पहले तीन राज्यों से उनकी सरकार गई. इससे लोगों का ट्रेंड समझा जा सकता है.’’

गठबंधन की स्थिति में नरेंद्र मोदी स्वीकार नहीं- पवार

इससे पहले भी शरद पवार कह चुके हैं, ‘’लोकसभा चुनाव में बीजेपी को बहुमत नहीं मिलेगा. वहीं अगर ये सबसे बड़ी पार्टी बनी तो भी उसे गठबंधन की जरूरत पड़ेगी. बीजेपी बड़ी पार्टी बन सकती है पर उसे बहुमत नहीं मिलेगा और गठबंधन की स्थिति में नरेंद्र मोदी स्वीकार नहीं होंगे. इस चुनाव के बाद नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री नहीं रहेंगे. उन्हें बहुमत के लिए जो आंकड़े चाहिए वो उन्हें नहीं मिलने वाले हैं.’’

 

Related News