Follow us:

बिहार में महिला बंदी से पुलिसकर्मियों ने किया सामूहिक दुष्कर्म

मुजफ्फरपुर। बिहार के सीतामढ़ी मंडल कारा की एक महिला बंदी के साथ मुजफ्फरपुर एसकेएमसीएच में सामूहिक दुष्कर्म किया गया। इस मामले में शैलेश कुमार और छोटेलाल कुमार को आरोपित किया गया है। दोनों सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी हैं। सीतामढ़ी मंडल कारा के अधीक्षक राजेश कुमार राय ने डुमरा थाने में प्राथमिकी के लिए प्रतिवेदन भेजा है।

डुमरा थानाध्यक्ष ने घटनास्थल एसकेएमसीएच होने के कारण अहियापुर थानाध्यक्ष को प्राथमिकी के लिए भेजा। अहियापुर थानाध्यक्ष मनोज कुमार सिंह ने प्राथमिकी दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। आवेदन में बताया गया कि सीतामढ़ी मंडल कारा में अपहरण के मामले में महिला एक साल से बंद थी। बार-बार अचेत होने की बीमारी के कारण उसे नौ नवंबर को सीतामढ़ी सदर अस्पताल में इलाज को लाया गया।

वहां, सुधार नहीं होने के बाद डॉक्टरों की तीन सदस्यीय टीम का बोर्ड गठित कर बेहतर इलाज के लिए एसकेएमसीएच भेजने की अनुशंसा की। सीतामढ़ी एसपी के आदेश पर दो महिला सिपाही व चार अन्य पुलिसकर्मियों की प्रतिनियुक्ति में 11 नवंबर को महिला बंदी को एसकेएमसीएच में भर्ती कराया गया।

इलाज के बाद जब सुधार हुआ तो वहां से पुनः उसे 22 नवंबर को सीतामढ़ी मंडल कारा में ले जाया गया। इसी क्रम में सीतामढ़ी मंडल कारा पर तैनात अफसर को पीड़ित महिला बंदी ने अपने साथ हुई घटना के बारे में बताया।

पीड़िता ने बयान में बताया कि 14 नवंबर की रात करीब ढाई बजे एसकेएमसीएच में भर्ती के दौरान महिला सिपाही अर्चना कुमारी के साथ वह शौचालय गई। जहां पर शैलेश कुमार और छोटेलाल कुमार द्वारा नशीला पदार्थ सुंघाकर शौचालय में ही उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया।