Follow us:

Bank Strike : 25 सितंंबर से होने जा रही बैंकों की हड़ताल को लेकर SBI ने अपने ग्राहकों को चेताया

सभी को बैंकों से काम पड़ता ही रहता है। बैंक के एक अवकाश का मतलब ही खाताधारकों के लिए बहुत परेशानी का कारण होता है। ग्राहकों के पास लेन-देन को पूरा करने के लिए बैंक के पास कोई अन्य विकल्प नहीं रहता है। ऐसे में, कल्पना करें कि दो दिन की बैंक हड़ताल हो तो क्‍या होगा।

यह असुविधा का सबब बन सकती है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसका आप जल्द ही सामना कर सकते हैं। अगले सप्‍ताह बैंकों की हड़ताल होने जा रही है।

भारतीय बैंक संघ (IBA) ने घोषणा की है कि अखिल भारतीय बैंक अधिकारी परिसंघ (AIBOC), अखिल भारतीय बैंक अधिकारी संघ (AIBOA), भारतीय राष्ट्रीय बैंक अधिकारी कांग्रेस (INBOC) और राष्ट्रीय बैंक अधिकारी संगठन (NOBO) ने बैंक कर्मचारियों द्वारा 26 और 27 सितंबर, 2019 को अखिल भारतीय हड़ताल का आह्वान किया गया है।


ग्राहकों को इन दो दिनों में बैंकों को बंद करने के लिए तैयार होना होगा। सार्वजनिक क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक एसबीआई ने अपने ग्राहकों को चेताया है कि इन दो दिनों की हड़ताल के दौरान उन्हें कुछ परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

भारतीय स्टेट बैंक ने स्वीकार किया कि हड़ताल के कारण कुछ हद तक कामकाज प्रभावित हो सकता है, जिसकी घोषणा हाल ही में घोषित 10 राज्यों में बैंकों के मेगा-विलय के खिलाफ चार में विरोध करने के लिए की गई है।

SBI ने कहा, कुछ हद तक होगा काम प्रभावित

एक रेग्‍युलेटरी फाइलिंग में एसबीआई ने कहा है कि, " अब जबकि बैंक ने अपनी शाखाओं और कार्यालयों में सामान्य कामकाज सुनिश्चित करने के लिए सभी व्यवस्थाएं की हैं, तो संभावना है कि हमारे बैंक में काम कुछ हद तक प्रभावित हो सकता है।"

गौरतलब है कि बीते 30 अगस्त को सरकार ने वैश्विक आकार के बैंकों को बनाने के लिए 2017 में 19 से 2017 तक PSB की कुल संख्या को घटाकर 12 करने की घोषणा की।

इस योजना के अनुसार, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया और ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स का विलय पंजाब नेशनल बैंक के साथ किया जाना है, जो प्रस्तावित इकाई को सार्वजनिक क्षेत्र का दूसरा सबसे बड़ा बैंक (PSB) बनाता है।

योजना में यह भी है प्रस्‍ताव

योजना में सिंडिकेट बैंक को केनरा बैंक के साथ विलय करने का भी प्रस्ताव है, जबकि इलाहाबाद बैंक को भारतीय बैंक में विलय कर दिया जाएगा। आंध्रा बैंक और कॉर्पोरेशन बैंक यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के साथ सम्‍मिलित होंगे।

इस साल हुआ इन बैंकों का विलय

इस साल की शुरुआत में, बैंक ऑफ बड़ौदा ने दूसरे सबसे बड़े सार्वजनिक क्षेत्र के ऋणदाता बनने के लिए विजया बैंक और देना बैंक को अपने साथ मिला लिया। SBI ने अपने पांच सहयोगी बैंकों- स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर और स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद और भारतीय महिला बैंक को भी अप्रैल 2017 में प्रभावी कर दिया था।

Related News