Follow us:

देवउठनी एकादशी आज, होगा तुलसी-सालिगराम का विवाह, 8 दिसंबर से बजेगी शहनाई

भोपाल। राजधानी में देवउठनी एकादशी सोमवार को धूमधाम से मनाई जाएगी। तुलसी-सालिगराम का विवाह होगा। देव उठने के साथ ही शुभ कार्य शुरू हो जाएंगे। हालांकि वैवाहिक शुभ मुहूर्त 8 दिसंबर से प्रारंभ होंगे। दिसंबर में केवल चार दिन ही मुहूर्त है। बाकी मुहूर्त 2019 में हैं। नए साल में कुल 107 दिन विवाह की शहनाइयां बजेंगी।

मां चामुंडा दरबार के पुजारी गुरु पंडित रामजीवन दुबे ने बताया कि नवंबर व दिसंबर में मुहूर्त न होने की वजह गुरु ग्रह का 12 दिसंबर तक अस्त रहना है, जो विवाह का कारक ग्रह माना जाता है। दिसंबर में सिर्फ चार दिन विवाह होने के चलते शहर के मैरिज गार्डन व शादी हाल बुक हो चुके हैं। कई लोग बुकिंग कराने से रह गए हैं। जनवरी में होने वाले विवाह समारोह के लिए भी अभी से बुकिंग कराना शुरू कर दिया है।

आज जागेंगे विष्णु भगवान

पंडित दुबे ने बताया कि आषाढ़ महीने के शुक्ल पक्ष की देवशयनी एकादशी से देवउठनी एकादशी तक चार महीने भगवान विष्णु शयनकाल की अवस्था में होते हैं। इस दौरान कोई शुभ कार्य जैसे शादी, गृह प्रवेश या मांगलिक कार्य नहीं होते।

तुलसी-लक्ष्मी विवाह वाला दिन शुभ

ज्योतिषाचार्य विनोद रावत ने बताया कि नए वर्ष में 10 फरवरी को वसंत पंचमी, 7 मई अक्षय तृतीया, 10 जुलाई भड़ली नवमी पर विवाह के अबूझ मुहूर्त हैं। विवाह के लिए ये तिथियां सर्वाधिक शुभ मानी जाती हैं। उन्होंने बताया कि 19 नवंबर को गुरु ग्रह अस्त रहने से विवाह मुहूर्त नहीं हैं पर अति आवश्यक होने पर ऐसी स्थिति में बहुत से लोग दिन की शुभता को ध्यान में रखकर तुलसी लक्ष्मी विवाह वाला दिन मानते हुए विवाह समारोह आयोजित कर लेते हैं।