Follow us:

देवास में शादी का झांसा देकर विधवा को किया अगवा, एक लाख रुपए में बेचा

देवास। शहर के संजय नगर निवासी एक विधवा महिला को शादी का झांसा देकर अपहरण कर उसे शाजापुर जिले के मोहन बड़ोदिया में बेचने का एक मामला सामने आया है।


मामले में औद्योगिक थाना पुलिस ने खरीददार पिता-पुत्र को गिरफ्तार कर लिया है जबकि अपहरण करने वाले पति-पत्नी व दो अन्य आरोपी अभी फरार है।

आरोपी पति-पत्नी ने ही महिला से जान-पहचान कर उसकी शादी कराने का झांसा दिया था। मामले में पुलिस ने अपहरण, दुष्कर्म, मानव तस्करी सहित अन्य धाराओं में केस दर्ज किया है।


औद्योगिक थाना टीआई शैलेंद्र मुकाती के अनुसार 27 वर्षीय महिला विधवा है और संजय नगर में अपने मायके में रहती थी। 24 जुलाई को उसके परिजन कावड़यात्रा में गए थे इसी दौरान वह घर से लापता हो गई थी। मामले में महिला के भाई की रिपोर्ट पर गुमशुदगी दर्ज की गई थी।


इसके बाद जांच में महिला के भाई ने बताया कि उसकी बहन ने फोन कर बताया है कि उसे मोहन बड़ोदिया में किसी के यहां बेच दिया गया है। इस पर पुलिस की टीम ने मोहन बड़ोदिया जाकर जांच की और वहां से खरीददार युवक प्रेम (22) व उसके पिता शिव पिता कन्हैयालाल जायसवाल (45) को गिरफ्तार कर महिला को उनके चंगुल से मुक्त कराया।


पति-पत्नी ने और उन्हेल के दो लोगों ने मिलकर बेचा


टीआई मुकाती ने बताया 11-12 जुलाई के आसपास महिला की मुलाकात बड़ी चुरलाय निवासी राहुल ठाकुर व उसकी पत्नी शोभा ठाकुर से हुई थी। दोनों मूलत: बड़ी चुरलाय के रहने वाले हैं लेकिन वर्तमान में उज्जैन की शिवधाम कॉलोनी में रहते हैं। मुलाकात के दौरान महिला ने बताया था कि वह विधवा है और उसे शादी करना है।


इसके बाद आरोपी शोभा ठाकुर ने महिला से लगातार संपर्क किया। इसके बाद 24 जुलाई को आरोपी शोभा व राहुल ने महिला को झांसा देकर एबी रोड स्थित रसूलपुर चौराहा पर बुलाया। यहां आरोपी राहुल, शोभा, दिनेश नागर निवासी उन्हेल व पठान निवासी उन्हेल उसे मिले। आरोपियों ने जबरदस्ती उसे अल्टो कार में बिठाया और अपने साथ उज्जैन ले गए।


आरोपी दिनेश ने किया दुष्कर्म


आरोपियों ने तीन-चार दिन महिला को उज्जैन में राहुल के किराए के मकान में रखा। इस दौरान आरोपी दिनेश नागर निवासी उन्हेल ने उसके साथ दुष्कर्म किया। इसके बाद आरोपियों ने उसे धमकी दी कि उसका वीडियो बना लिया गया है।


बाद में उन्हेल निवासी पठान की मदद से महिला को मोहन बड़ोदिया के शिव जायसवाल के बेटे प्रेम जायसवाल को एक लाख स्र्पए में बेच दिया। इसके बाद आरोपी प्रेम उसे अपने साथ मोहन बड़ोदिया ले गया।


फर्जी नोटरी की, शादी का उल्लेख किया


पुलिस के अनुसार आरोपियों ने एक लाख स्र्पए में महिला का सौदा करने के बाद नोटरी कर महिला को प्रेम जायसवाल को सौंप दिया।


नोटरी में उल्लेख किया कि महिला और प्रेम की शादी हो गई है और अब वह उसके साथ ही रहेगी। जैसे-तैसे महिला ने वहां कुछ दिन गुजारे और एक दिन मौका पाकर किसी के मोबाइल से अपने भाई को फोन किया।


इसके बाद पुलिस सक्रिय हुई और आरोपी पिता-पुत्र को गिरफ्तार किया। मामले को ट्रेस करने में टीआई मुकाती, एसआई रविता चौधरी, एएसआई विनय तिवारी, प्रआ पशुपति नाथ चौबे, आरक्षक दुलीचंद की विशेष भूमिका रही।


अन्य लड़कियों को भी बेचा


उधर पीड़ित महिला ने पुलिस को बताया कि आरोपियों ने पहले भी दो-तीन लड़कियों को बेचा है। हालांकि इसकी अभी पुष्टी नहीं हुई है। टीआई मुकाती ने बताया लड़की ने यह बात कही है लेकिन अभी चार आरोपी फरार है। उनकी तलाश की जा रही है। उनके पकड़ाने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।