Follow us:

धार में सरल बिजली बिल योजना तथा मुख्यमंत्री बकाया बिजली बिल माफी योजना का हुआ शुभारंभ, 3 कार्यो का लोकार्पण संपन्न, कार्ड के माध्यम से शासन की विभिन्न योजनाओं का लाभ मिलेगा- श्री आर्य

धार। जिले के प्रभारी एवं प्रदेश के पशुपालन, जेल, पर्यावरण, मत्स्य विभाग के मंत्री अंतरसिंह आर्य ने बुधवार को यहाॅं बालाजी गार्डन मिलन महल के सामने आयोजित समारोह में मुख्यमंत्री जनकल्याण (संबल) योजना 2018 के तहत सरल बिजली बिल योजना तथा मुख्यमंत्री बकाया बिजली बिल माफी योजना का माॅ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलित कर शुभारंभ किया। इस समारोह में प्रभारी मंत्री श्री आर्य ने एडीबी योजना के अंतर्गत 220/132 केव्ही सुसारी अतिरिक्त उच्चदाब उपकेन्द्र की आधार शिला रखी। इस कार्य पर 9724.00 लाख रूपये की लागत आएगी। श्री आर्य ने इस समारोह में गंधवानी विधानसभा क्षेत्र के ग्राम काबरवा में 192.00 लाख रूपये की लागत के 33/11 केव्ही सबस्टेशन, कुक्षी विधानसभा क्षेत्र के ग्राम कवड़ा में 160.00 लाख रूपये की लागत से 33/11 केव्ही सबस्टेशन, धार विधानसभा क्षेत्र के पीथमपुर में 19.00 लाख रूपये की लागत के 33/11 केव्ही उपकेन्द्र पीथमपुर का क्षमता वृद्धि 3.15 से 5.00 एमव्हीए का लोकार्पण किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता सांसद सावित्री ठाकुर ने की।
प्रभारी मंत्री श्री आर्य ने इस समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान प्रदेश में सत्ता में आने के बाद कहा था कि सरकार की जितनी भी नीतियां और योजनाएं बनेगी, वह समाज के हर वर्ग के कल्याण के लिए बनेगी। यह हमारे सामने परिलक्षित हो रही है। श्री आर्य ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान 24 घन्टे में से 18 घन्टे कार्य करते है। इस योजना को कारगर ढ़ंग से लागू करना है। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट निर्देश दिए है कि मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना पूरी तरह से धरातल पर उतारी जाए। श्री आर्य ने कहा कि असंगठित श्रमिकों के पंजीयन के मामले में धार जिला प्रदेश में प्रथम स्थान पर है और लाभ देने में भी यह जिला प्रदेश में प्रथम स्थान पर है। यह शासन-प्रशासन का बेहतर तालमेन होने की वजह से ही संभव हो सका है। प्रभारी मंत्री ने जिला प्रशासन तथा उनकी पूरी टीम को इसके लिए बधाई दी है।
श्री आर्य ने कहा कि प्रदेश में पहले 2900 मेगावाॅट बिजली का उत्पादन होता था, अब यह आॅकड़ा बढ़कर 17 हजार मेगावाॅट बिजली का उत्पादन हो रहा है। सिंचाई के क्षेत्र में भी प्रदेश में बहुत विकास हुआ है। हिन्दुस्तान में मध्यप्रदेश अनाज उत्पादन में पहले स्थान पर है। यह प्रदेष लगातार पाॅचवी बार कृषि कृर्मण पुरूस्कार प्राप्त किया है। गेहॅू, धान तथा चने का भी पर्याप्त उत्पादन हुआ है। यह सब बिजली की भरपूर उपलब्धता से संभव हो सका है। प्रदेश में पहले 7 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होती थी, अब यह रकबा बढ़कर 40 लाख हेक्टेयर तक पहुॅंच गया है। हमारा लक्ष्य है कि सिंचाई का रकबा 80 लाख हेक्टेयर तक बढ़ाया जाए।
श्री आर्य ने पंजीकृत श्रमिकों से कहा कि उन्हे कार्ड प्रदाय किया जा रहा है, इस कार्ड को संभालकर रखे। इस कार्ड के माध्यम से शासन की विभिन्न योजनाओं का लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि शासन द्वारा कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए है। जिसके तहत गर्भवती माताओं को 4 हजार रूपये तथा प्रसूति के बाद 12 हजार रूपये, इस प्रकार कुल 16 हजार रूपये की राशि प्रदाय की जावेगी। जिससे वे अपने स्वास्थ्य का बेहतर ढ़ंग से देखभाल कर सकेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सड़कों की स्थिति बहुॅत अच्छी होने के कारण सड़क दुर्घटनाएं भी बढ़ रही है। शासन द्वारा किसी व्यक्ति की सड़क दुर्घटना पर हाथ, पैर फैक्चर होने पर 1 लाख रूपये, दुर्घटना में स्थाई रूप से अपंग होने पर 2 लाख रूपये तथा साधारण बीमारी से मृत्यु होने पर नगरीय तथा ग्रामीण क्षेत्र में अंतिम संस्कार के लिए 5 हजार रूपये की सहायता राशि प्रदाय की जावेगी। साधारण मृत्यु होने पर 12वाॅं या 13वाॅं करने के लिए 2 लाख रूपये प्रदाय किए जावेगे। इसी प्रकार दुर्घटना में मृत्यु होने पर 4 लाख रूपये की सहायता राशि दी जावेगी। उन्होंने कहा कि गरीबों के बच्चों को पहली से उच्चशिक्षा के लिए फीस शासन वहन करेगी।
उन्होंने कहा कि शासन द्वारा गरीबों के 30 जून तक के बिजली बिल की राशि माफ की है। जुलाई से गरीब उपभोक्ताओं को 200 रूपये की राशि जमा करना होगी। इससे ऊपर की राशि शासन द्वारा वहन की जावेगी। उन्होंने कहा कि शासन द्वारा गरीब उपभोक्ताओं को घर में 4 बल्ब, 2 पंखे, 1 कुलर चलाने की सुविधा दी गई है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के अंतर्गत 8 करोड़ महिलाओं को गैस कनेक्शन प्रदाय किए गए है। उन्होंने कहा कि 2022 तक गरीबी की रेखा से नीचे रहने वाले सभी लोगों को पक्के मकान की सुविधा उपलब्ध करवाई जावेगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना लागू की है। इसके तहत धार जिले को 180 करोड़ रूपये मिले है। यह हमारे लिए खुशी की बात है। प्रभारी मंत्री श्री आर्य ने इस योजना के तहत लाभान्वित हितग्राहियों को प्रमाण पत्र वितरित किए। इस समारोह में जिला पंचायत अध्यक्ष मालती-मोहन पटेल, धार विधायक नीना-विक्रम वर्मा तथा जिला योजना समिति के सदस्य डाॅ. राज बर्फा ने भी सम्बोधित किया।
कलेक्टर दीपक सिंह ने कहा कि राज्य शासन द्वारा दो महत्वपूर्ण योजनाएं शुरू की है। जिसमें सरल बिजली बिल योजना तथा मुख्यमंत्री बकाया बिजली बिल माफी योजना शामिल है। इन योजनाओं का लाभ अंसगठित पंजीकृत श्रमिकों को मिलने वाला है। जिनका नाम बीपीएल सूची में दर्ज और जिनके पास कार्ड होगे, उन्हें इस योजना का लाभ प्राप्त होगा। उन्होंने जिले के पंजीयन से शेष रहे लोगों को संबंधित ग्राम पंचायत तथा नगरीय क्षेत्र के नगरपालिका में पंजीयन कराने का आव्हान किया है। इस अवसर पर जावरा से मुख्यमंत्री के उद्बोधन का सीधा प्रसारण किया गया।
इस अवसर पर जिला पंचायत के उपाध्यक्ष कल्याण पटेल, नगरपालिका उपाध्यक्ष कालीचरण सोनवानिया, पुलिस अधीक्षक बीरेन्द्र कुमार सिंह, समस्त अधीक्षण यंत्री, कार्यपालन यंत्री, बड़ी संख्या में हितग्राही व ग्रामीणजन उपस्ािित थे। कार्यक्रम के प्रारंभ में अधीक्षण यंत्री कामेश श्रीवास्तव ने स्वागत भाषण दिया। कार्यक्रम का संचालन सेक्षन आॅफिसर किशोर जैन ने किया।

Related News