Follow us:

धार- डाॅयल 100 के आरक्षक और चालक पर लट्ठ से हमला कर किया घायल, पुलिस ने 8 लोगों पर किया प्रकरण दर्ज

धार-अमझेरा। जब कभी भी कही दंगा,विवाद या किसी प्रकार की कोई दुर्घटना घटित होती है तो 100 डायल नंबर पर मदद के लिए फोन लगाया जाता है। जिस पर 100 डायल वाहन तुरंत ही घटना स्थल पर पहुंचती है। लेकिन मदद करने वालो पर ही हमला कर उन्हें घायल कर दे ऐसा मामला कम ही देखने को मिलता है। अमझेरा थाने की 100 डाॅयल वाहन के आरक्षक विनोद सोलंकी और वाहन चालक धिरज डावर के साथ ऐसा ही घटनाक्रम घटित हुआ जिससे वे दोनो घायल हो गए। दरअसल सोमवार की शाम को करीब 6ः30 बजे मांगोद फाटे पर खड़ी 100 डाॅयल पर विवाद होने तथा एक व्यक्ति के साथ मारपीट होने को लेकर समीपस्थ ग्राम खरेली से फोन आया। जिस पर वाहन चालक धिरज व आरक्षक विनोद सोलंकी तत्परता के साथ घटना स्थल पर पहुंचे। जैसे ही वे वहाॅ पर पहुंचे वहां पर विवाद कर रहे लोगो ने उन पर एकाएक लटठ से हमला कर दिया। जिससे आरक्षक का सिर फुट गया वहीं वाहन चालक धिरज को भी हाथ-पैर में चोट पहंुची। इस दौरान हमला कर रहे लोगो ने आरक्षक को 30 मिनट तक बंदी बनाये रखा तथा किसी तरह से जब सुचना अमझेरा थाने पर पहुंची तो उन्हे वहां से छुड़ाया गया। दोनो घायलों को अमझेरा के अस्पताल लाया गया जहाॅ डाॅ. आगलेचा ने उनका इलाज किया। आरक्षक को सिर में तीन व हथेली में दो टांके आये वह वाहन चालक को हाथ पैर में लटठ लगने से सुजन आ गई। इस संबंध में थाना प्रभारी उम्मेदसिंह बोराना ने बताया की हमला करने वाले आदीवासी समाज के लोग है। जिनमें राकेश पिता टेटु, सुंदरसिंह पिता सोमला, सुनिल पिता सुंदरसिंह, महेश पिता सुंदरसिंह, धानसिंह पिता सुंदरसिंह, लाखन पिता सुंदरसिंह, गुंदाबाई पति सुंदरसिंह, मुन्नीबाई पति लाखनसिंह निवासी ग्राम खरेली के विरूद्ध भादवि की धारा 353, 332, 147, 148, 149 के तहत मामला दर्ज कर कानुनी कार्यवाही की गई हैं तथा आरोपियों को शिघ्र ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
ये था पुरा मामला

आदिवासी परिवार के एक लड़के के द्वारा दुसरे परिवार की लड़की को भगाने के मामले में लड़की के परिवार वालो ने लड़के के पिता को बंदी बना लिया तथा उसके साथ बुरी तरह से

Related News