Follow us:

धार- जलजमाव से सोयाबीन, मक्का की फसलों में लगे फंगस, 50 प्रतिशत नुकसानी में मिलेगा मुआवजा, कम नुकसानी वालों को फसल बीमा से मदद की उम्मीद

धार। जिले से सामान्य से अधिक वर्षा दर्ज हो चुकी है। इधर रूक-रूकबर बारिश का दौर जारी है। जलजमाव से कुक्षी, गंधवानी, सरदारपुर, मनावर के कई इलाकों में फसलों में नुकसान हुआ है। पानी जमा होने से इन फसलों में फंगस लग गया है। नुकसानी वालों फसलों के आकलन के लिए तैयारियां शुरु हो गई है। कलेक्टर श्रीकांत बनोठ ने पूर्व में ही सूचित कर दिया है कि प्राकृतिक आपदा या नुकसानी की स्थिति में 72 घंटे के अंदर सूचना दें, ताकि सही तरीके से सर्वे और आकलन किया जा सके। एक अनुमान के मुताबिक जिले में करीब 800 से 1 हजार हैक्टेयर में फसलों को फंगस से नुकसान हुआ है। जिले के कुल रकबे की तुलना में यह नुकसानी अंश मात्र है। इसके बावजूद जिन किसानों को जल जमाव से नुकसान हुआ है। उनके आर्थिक गणित गड़बड़ा गए हैं।
टोल फ्री नंबर पर कराएं शिकायत दर्ज
किसानों को परेशानी ना हो इसके लिए कलेक्टर श्रीकांत बनोठ ने जल जमाव एवं अन्य कारणों से होने वाली नुकसानी की सूचना के लिए टोल फ्री नंबर पर शिकायत दर्ज कराने के लिए नंबर 18001035499 प्रचारित किया है। श्री बनोठ ने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनांतर्गत संशोधित मार्गदर्शी निर्देशिका के प्रावधान अनुसार स्थानीय आपदा जैसे ओलावृष्टि, भू-स्खलन, जलभराव, बादल फटना प्राकृतिक बिजली, प्राकृतिक आग लगना शामिल है। इन आपदओं के आने पर 72 घंटे के भीतर सूचना देना आवश्यक हैं। मध्य मौसम प्रतिकूलता जैसे बीमित फसल मौसम के मध्य जलभराव, वृहद कीट एवं व्याधि, भू-स्खलन, प्राकृतिक आग, बिजली कड़कना, तूफान, ओलावृष्टि, चक्रवात, बाढ़, लम्बी सूखी अवधी इत्यादि परिस्थितियों के कारण यदि अनुमानित उपज सामान्य उपज से 50 प्रतिशत से भी कम आने की संभावना होने पर समक्ष अधिकारी द्वारा इस आशय की अधिसूचना जारी की जाएगी। फसल नुकसानी होने पर बीमा कम्पनी के प्रतिनिधि कृषि विभाग एवं संबंधित कृषक द्वारा संयुक्त रूप से सर्वे किया जाएगा। योजना संबंधी अधिक जानकारी के लिए फसल बीमा के पोर्टल एवं बीमा कम्पनी के जिला स्तरीय प्रतिनिधि दिनेश प्रजापत के मोबाईल नम्बर 9165888952 से भी सम्पर्क किया जा सकता हैं।

Related News