Follow us:

धार में जिला स्तरीय शांति समिति की हुई बैठक, जमकर हुआ हंगामा, आयोजकों की बैठक कर अखाड़ों की संख्या व समय निर्धारित करने के दिए अधिकारियारें ने निर्देश

धार। यहां पर अशांति फैलाने से कुछ नहीं होगा, आप सभी शांत रहे। तथा सभी एकमत होकर निर्णय लेंगे, जिसके बाद ही कोई हल निकलेगा। इस तरह से बहस करने से कुछ हल नहीं निकल पाएगा। आप सभी एसडीएम व सीएसपी को लेकर बैठक कर लें, इसके बाद जो भी निर्णय होगा। उसी प्रकार से व्यवस्थाएं की जाएगी। उक्त बाते आज कलेक्टर श्रीमन शुक्ला ने आगामी दिनों में निकलने वाले छाबीने को लेकर बुलाई गई शांति समिति की बैठक में कही। शुक्रवार को बुलाई गई शांति समिति पूरी तरीके से हंगामेदार रही। बैठक में एकाएक आरती मंडल व धर्मरक्षक मंडल के सदस्यों में जमकर बहस हुई, जिसके चलते बीच बचाव कलेक्टर सहित अन्य अधिकारियों ने किया। आरती मंडल के सदस्य बैठक में से उठकर जाने लगे, तो एडीएम ने सभी को हाथ पकड़कर बैठने के लिए कहा। वहीं संरक्षक अनंत अग्रवाल ने कलेक्टर से मांग करते हुए कहा कि आप समिति को भंग कर दे, इसके बाद दोनों तरफ से 5-5 लोगों को लेकर नई समिति बना दी जाए। हालांकि कलेक्टर ने मंदिर में ही बैठकर दोनों पक्षों को बात करने की सलाह कलेक्टर व एसपी ने दी।

बैठक में कलेक्टर श्री शुक्ला ने निर्देश दिए कि छबीना चल समारोह में अखाडो की संख्या प्रदर्शन करने वालो को सूचीबद्ध किया जावे तथा अखाडो की समय सीमा तय की जावे। उन्होने कहा कि चल समारोह मे धुम्रपान नही होने, ड्रेस कोड एवं व्यवस्था के संबध में अखाडा आयोजको से सिटी मजिस्ट्रेट नगर पुलिस अधीक्षक तथा नगर निरीक्षक कोतवाली द्वारा आयोजकगणो की बैठक 12 अगस्त से पूर्व आयोजित कर ली जाऐ। छबिना में अखाडो के आयोजक अपने कार्यकर्ताओ को प्रत्येक अखाडो के साथ नियंत्रण हेतु रखेगे तथा पहचान हेतु उन्हें बैजेस प्रदान करेगे। चल समारोह में धार्मिक गाने गाए जाने तथा फूहडता का प्रदर्शन न करने की अपील की गई।
अखाडो के लिए विधिवत अनुमति ली जावे
चल समारोह में धारदार हथियार, घातक अस्त्र-शस्त्र लेकर चलने पर प्रतिबंधित किए जाने की जानकारी दी गई। अखाड़ों के आयोजकों को विधिवत अनुमति लेने के लिए निर्देशित किया गया। समिति ने आम सहमति से यह तय किया कि छबीना के चल समारोह के अखाडों में केवल खलीफा के पास हथियार रहेगा। छबीना चल समारोह के दौरान पूरे दिवस धार नगर की शराब दुकान बन्द रखी जाने हेतु जिला आबकारी अधिकारी को कार्यवाही करने के निर्देश दिए गए। छबीना चल समारोह में आवारा जानवरोें पर सख्ती से रोक लगाकर और आवारा पशुओं को जिले की दूरस्थ गौशाला में भेजने की कार्यवाही पर चर्चा की गई। मंदिर परिसर में सफाई, चल समारोह के मार्गो की साफ-सफाई, स्ट्रीट लाइट एवं छबीने के मार्ग के गड्डों को भरने तथा आवारा पशुओं को पकडने की कार्यवाही के लिए मुख्य नगर पालिका अधिकारी को निर्देशित किया गया। विद्युत तारों को ऊॅंचे करने तथा वृक्षों की टहनिया छाॅंटने के लिए एमपीईबी के अधिकारियों को निर्देशित किया गया। समिति के सदस्यों द्वारा अनुरोध किया गया कि उक्त त्यौहारों के दौरान विघुत आपूर्ति निरन्तर रखी जायें।
22 फीट से अधिक न रखी जावे मटकी की उॅचाई
बैठक में जन्माष्टमी त्यौहार के संबंध में भी विस्तार से चर्चा की गई तथा सामान्य परिस्थिति में मटकी की अधिकतम ऊॅचाई 22 फीट तक रखे जाने के लिए निर्देषित किया गया। मटकी फोड कार्यक्रम में सुरक्षा की दृष्टि से जाल/नेट की व्यवस्था करने का सुझाव दिया गया। साथ ही नगर में मटकी फोड कार्यक्रम रात्रि 8 बजे से प्रारंभ होकर रात्रि 01.00 बजे तक समाप्त होगा। मटकी फोड कार्यक्रम विशेष रूप से मोहन टाकिज, एकता चौपाटी, हटवाडा ,धानमण्डी, राय चौपाठी, पट्ठा चौपाटी, नरसिंह चौपाटी, आनन्द चैपाटी, राजवाडा, नालछा दरवाजा, पीपली बाजार में आयोजित किये जाने की जानकारी दी गई। कोई भी मटकी विघुत लाईन से उपर नहीं बांधी जायेंगी। इस संबंध में विद्युत मण्डल के अधिकारियों को शहर में भ्रमण कर उक्त स्थिति सुनिष्चित करने के निर्देश भी दिए गए। मटकी फोड कार्यक्रम के दौरान संभावित किसी दुर्घटना के लिए तत्कालिक व्यवस्था हेतु एक एम्बुलेंस पुलिस कन्ट्ोल रूम पर रखी जायेंगी। मटकी फोड़ कार्यक्रम उसी दिन पूरा किया जाएगा, दूसरे दिन कोई भी मटकी फोड़ कार्यक्रम न करें। जिसके लिएं संबंधित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए गए।
बैठक में कलेक्टर श्रीमन् शुक्ला, पुलिस अधीक्षक बीरेन्द्र सिंह के अलावा एडीएम डीके नागेन्द्र, एसडीएम सुश्री भव्या मित्तल, एडीशनल एसपी रायसिंह नरवरिया, सीएसपी विक्रम सिंह, विधायक प्रतिनिधि अनन्त अग्रवाल, नगरपालिका अधिकारी डा. मधु सक्सेना के अलावा नरेश राजपुरोहित, शरद विजयर्वीय, डाॅ. मनोहरसिंह ठाकुर, अजय ठाकुर, श्री अरोरा व समिति के अन्य सदस्यगण तथा विभिन्न विभागों के अधिकारीगण मौजूद थे।

Related News