Follow us:

धार- नियम के बाहर जाकर कुछ नहीं करना और नियम में आने वाले लोगों के कार्य नहीं रोकना- कलेक्टर श्री बनोठ

धार। कलेक्टर श्रीकांत बनोठ ने जिला अधिकारियों को हिदायत दी है कि जन समस्याओं के निराकरण में पूरी पारदर्शिता बरतते हुए समय सीमा में कार्य करें। रोजमर्रा की तकलीफों समस्याओं एवं शिकायतों के लिए आमजन का जिला कार्यालय या जनसुनवाई में उपस्थित होना निचले स्तर के अधिकारियों कर्मचारियों की अक्षमता साबित करता है। कलेक्टर श्री बनोठ ने कहा कि पिछली कई जनसुनवाई के दौरान यह तत्थ संज्ञान में आया है कि पीड़ित लोग छोटी-छोटी समस्याओं, कार्यो के लिए जिला मुख्यालय का रुख करते हैं। यह सोचना होगा कि दूर दराज से ग्रामीण अपना समय और धन खर्च कर आते हैं। उनके कार्य वहीं हो जाएं तो क्या दिक्कत। आफ्टर ऑल मेरे निर्देश के बाद भी तो आप नियमानुसार हो जाने वाले कार्यो को करते ही हैं। खयाल रहे समस्याओं के निराकरण हेतु मैदानी अमले की जबावदेही के साथ ही आपकी जवाबदेही सुनिश्चित की जाएगी। नागरिकों तथा ग्रामीणों की छोटी-छोटी परेशानियों के निराकरण में किसी भी स्तर पर कोई कोताही नहीं हो। संबंधित अधिकारी का दायित्व होगा कि वे आवेदक को अपना स्पष्ट जवाब लिखित में दें। साथ ही कार्य संपादन का समय भी बता दे कि कब तक कार्य होगा। कलेक्टर का कहना था कि नियम के बाहर जाकर कुछ नहीं करना और नियम में आने वाले कार्य नहीं रोकना। कलेक्टर श्री बनोठ ने मंगलवार को जनसुनवाई पश्चात ये निर्देश दिए। उन्होने स्पष्ट किया कि छोटी मोटी समस्याओं एवं शिकायतों के लिए नागरिकों एवं ग्रामीणों का जिला कार्यालय में आना अधिनस्थ अमले के लिए अपनी कार्यशैली में सुधार किए जाने का संकेतक होगा। उन्होंने कहा कि छोटी-छोटी परेशानियों के निराकरण में किसी भी स्तर पर की गई लापरवाही को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। कलेक्टर श्री बनोठ ने दिव्यांग देवीलाल पिता मुलचन्द को रेडक्रास से ईलाज हेतु सहायता राषि तीन हजार रूपये का चेक मौके पर प्रदाय किया। आज हुई जनसुनवाई में 70 आवेदन प्राप्त हुए जिनके निराकरण अथवा आवश्यक कार्यवाही हेतु संबंधित विभाग प्रमुखो को निर्देशित किया गया। सीईओ संतोष कुमार वर्मा भी मौजूद थे।