Follow us:

धार में पर्युषण पर्व का समापन, भगवान के हुए अभिषेक, शोभायात्रा निकली, भजन प्रतियोगिता भी हुई

धार। दिगम्बर जैन समाज के पर्युषण पर्व के अंतिम दिन अनंत चतुर्दर्शी पर भगवान के अभिषेक हुए। दोपहर में श्रीजी की शोभायात्रा नगर में निकाली गई, जबकि गत रात्रि में आकिंचन धर्म पर प्रवचन व महिला-पुरुष वर्ग की भजन प्रतियोगिता भी संपन्न हुई। बुधवार को शांतिधारा व सौधर्म बनने का सौभाग्य विजय कुमार संजय कुमार तथा नमन छाबड़ा परिवार को मिला। प्रमुख रूप से मंडल विधान की विशेष पूजा-अर्चना की। भगवान वासपुज्य नाथ का निर्वाण दिवस होने से लाडू भी चढ़ाए गए। मीडिया प्रभारी सुभाष जैन ने बताया कि प्रात: से ही मंदिर जी में भक्तजनों का आना प्रारंभ हुआ था। अभिषेक करने वालों की संख्या अत्यधिक थी। ब्रह्मचारी मनोज भैया के निर्देशन में सभी ने क्रमवार अभिषेक किए। दोपहर में श्रीजी की शोभायात्रा में महिलाएं केसरिया व पुरुष सफेद वस्त्र धारण किए गए हुए थे। जुलूस विभिन्न मार्गों से आकर मंदिर जी में अभिषेक हुए। श्रीजी की स्थान-स्थान पर आरती उतारी गई। रात्रि में ब्रह्मचार्य धर्म पर मनोज भैया ने प्रवचन दिए। धर्मसभा में जबलपुर से आए मनोज भैया व जिन्होंने उपवास आदि व्रत किए उनका सम्मान किया गया। पंचतेला उपवास मोहिता छाबड़ा एवं राकेश गंगवाल, ऊषा गंगवाल, वर्षा गंगवाल ने तीन-तीन उपवास किए। मोहिता छाबड़ा सहित सभी के उपवास करने पर उन्हें गाजे-बाजे के साथ देवदर्शन करा गए। धर्मसभा में अध्यक्ष वीरेन्द्र जैन ने पर्युषण पर्व के दौरान हुए कार्यक्रमों की जानकारी देकर भक्तजनों का अभिनंदन किया। आभार समाज सचिव नवीन गोधा ने माना। 15 सितंबर को क्षमावाणी पर्व मानतुंगगिरी पर भगवान के अभिषेक के साथ मनाया जाएगा। मानतुंगगिरी तीर्थ पर भी मंडल विधान पूजन व अभिषेक हुए। गत दिवस मानतुंगगिरी तीर्थ पर सौधर्म बनने का सौभाग्य सुरेन्द्र झांझरी परिवार को मिला, जबकि आज इस तीर्थ पर सौधर्म इंद्र बनने का सौभाग्य रमेशचंद्र खाग को प्राप्त हुआ।

Related News