Follow us:

धार में स्वास्थ्य जागरूकता शिविर संपन्न, व्यक्तिगत स्वच्छता के साथ प्रकृति का ध्यान रखना हमारी जिम्मेदारी

धार। हमारा पर्यावरण हमारे स्वास्थ्य का नियंता है। सफाई से शरीर स्वस्थ्य रहता हैं, वैसे ही पर्यावरण का शुद्ध होना हमारे लिए ज़रूरी है। बच्चों में पाऊच और नशे का बढ़ता उपयोग घातक है। हमारी धरती के लिए पन्नी पॉलीथीन भी उतना ही घातक है। हमें प्लास्टिक का उपयोग नहीं करना है। खरीददारी करते समय कपड़े की थैली साथ ले जाना है। ये विचार प्रतिमास की आठ तारीख को किला मैदान स्थित पिछड़ी बस्ती में स्वास्थ्य जागरूकता शिविर में वक्ताओं ने व्यक्त किए। वक्ताओं में छाया गुंजाल, भारती कराले, नंदा मुरमकर, अर्चना मुकाती, वंदना माने, रक्षा कोठरी, लक्ष्मी सेठी प्रमुख रही। शिविर का आयोजन जीजामाता महिला मंडल की सद्स्यों ने आयोजित किया। महिलाओं द्वारा अपने संसाधनों से आयोजित लगातार 7 वा शिविर था। इस शिविर का आरम्भ हाथ धुलाई से आरम्भ हुआ। सभी बालिकाओं और महिलाओं ने ठीक तरीकों से हाथ धोए और फर्क महसूस किया। सभी उपस्थितों को साबुन का वितरण किया गया। कपड़े की थैलियों का वितरण भोज शोध संस्थान के सहयोग से किया गया। शिविर में घर से निर्मित पौष्टिक आहार का वितरण भी किया गया। शिविर में पैरालीगल वॉलिंटियर्स अर्चना मुकाती ने प्लाष्टिक के दुष्परिणाम बताए व विशेषकर महिलाओं से आव्हान किया कि प्लास्टिक के स्थान पर कपड़े की घर निर्मित थैली का उपयोग करे। आंगनवाड़ी सहायिका नजमा बी का सराहनीय योगदान रहा। यह जानकारी रुचि नायकवाड़े ने दी।

Related News