Follow us:

धार में मानतुंगगिरी तीर्थ पर सिद्धचक्र मंडल विधान की पूजा-अर्चना जारी, 2040 में से अब तक 120 अर्घ्य चढ़ाए

धार। दिगम्बर जैन मानतुंगगिरी तीर्थ पर अष्टाह्निका पर्व के दौरान आयोजित सिद्ध चक्र मंडल विधान हेतु पूजा-अर्चना उत्साह के साथ चल रही है। मंडल विधान क्षुल्लिका चंद्रमति माताजी के प्राप्त सान्निध्य व ब्रह. भावेश भैय्या पूजन विधि संपन्न करा रहे है। पूजन में संगीत राकेश एंड पार्टी इंदौर दे रही है। मीडिया प्रभारी सुभाष जैन ने बताया कि पूजन के दौरान महिलाएं, पुरुष नृत्य करते हुए अर्घ्य चढ़ा रहे है। अभी तक 120 अर्घ्य चढ़ाए जा चुके है। शेष 4 दिनों में 1 हजार 920 अर्घ्य और चढ़ाए जाएंगे। इस मंडल विधान में 8 दिवस में कुल 2040 अर्घ्य चढ़ाए जाएंगे। गुरुवार को शांतिधारा के लाभार्थी जिनेन्द्र काला परिवार थे। सौधर्म इंद्र-इंद्राणी संजय ममता गंगवाल बने थे। आगामी दिवस के लिए सौधर्म इंद्र-इंद्राणी विनय चेतना छाबड़ा बनाए गए है। प्रात: भगवान के अभिषेक व नित्य नेम पूजा हो रही है। चंद्रमति माताजी के प्रवचन भी प्रतिदिन हो रहे हैं। चंद्रमति माताजी ने कहा कि कई वर्षों बाद सिद्ध चक्र मंडल विधान का आयोजन हुआ है। यह मंडल विधान जैन धर्म में अत्याधिक महत्वपूर्ण माना जाता है। इस मंडल विधान से शांति, समय पर वर्षा होती है। जीवदया का इसमें प्रावधान है। यह मंडल विधान अनेक उद्देश्यों को पूर्ण करते हुए आत्म कल्याण का मार्ग दिखाता है। ज्ञातव्य हो कि इस मंडल विधान में 150 से अधिक जोड़े पूजन में हिस्सा ले रहे हैं। महिलाएं व्रत व उपवास भी करती है। मंडल विधान का समापन 16 जुलाई को हवन के साथ होगा। इस संबंध में व्यवस्था हेतु बनाई गई विभिन्न समितियां सुचारू रूप से अपने कर्तव्य निभा रही है। रात्रि में आरती व जाप भी किए जाते है। अध्यक्ष वीरेन्द्र व सचिव नवीन गोधा के अनुसार 16 जुलाई को गुरुपूर्णिमा भव्य पैमाने पर मनाने की तैयारी चल रही है।

Related News