Follow us:

लाखों का आ जाए बिजली बिल, तो इस नंबर पर करें कॉल

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के औरंगाबाद शहर में महाराष्ट्र राज्य विद्युत वितरण कंपनी के एक अधिकारी की लापरवाही के चलते शहर में सब्जी बेचने वाले शख्स ने खुदकुशी कर ली. दरअसल इस शख्स के घर 8 लाख 64 हजार रुपये का बिजली का बिल भेजा गया था, जिससे परेशान होकर इस शख्स ने आत्महत्या कर ली.

यह पहली बार नहीं है, जब किसी को लाखों रुपये का बिजली का बिल आया हो. इससे पहले भी कई ऐसी घटनाएं हुई हैं और अक्सर ऐसी घटनाएं होती रहती हैं, जहां आपको सामान्य से ज्यादा का बिजली का बिल आ जाता है.

अगर कभी आपको भी किसी महीने अन्य महीनों के मुकाबले काफी ज्यादा बिजली का बिल आता है. आपको लगता है कि बिजली का बिल आपके सामान्य इस्तेमाल से काफी ज्यादा है और इतना आ ही नहीं सकता. ऐसी सूरत में आपको कुछ कदम उठाने की जरूरत है, ताकि आप गैरजरूरी बिल भरने से बच जाएं. आगे जानिए ऐसी सूरत में आपको क्या करना चाहिए.

स्टेप 1: सबसे पहले आपको यह सुन‍िश्च‍ित करना होगा कि आपके बिजली के मीटर में कोई खराबी नहीं है या फिर कहीं आपके हिस्से की बिजली चोरी तो नहीं हो रही. ऐसा कुछ न होने पर आप इसकी श‍िकायत उस कंपनी अथवा निगम से कर सकते हैं, जो आपको बिजली मुहैया करता है.


स्टेप 2: बिजली मुहैया कराने वाली कंपनी से श‍िकायत आप ऑनलाइन भी कर सकते हैं. मौजूदा समय में लगभग हर बिजली कंपनी व निगम ऑनलाइन रिड्रेसल फॉरम चलाते हैं. जहां आप अपनी श‍िकायत दर्ज कर सकते हैं. इसके अलावा आप कंपनी अथवा निगम के नजदीकी कार्यालय में भी पहुंच सकते हैं.


स्टेप 3: अगर यहां भी आपकी श‍िकायत पर कोई सुनवाई नहीं होती है, तो आप नेशनल कंज्यूमर हेल्पलाइन पर कॉल कर अपनी श‍िकायत दर्ज कर सकते हैं. भारत सरकार ने ऐसे मामलों के लिए एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया है. यहां कॉल कर आप अपनी श‍िकायत दर्ज कर सकते हैं.


स्टेप 4: आप हेल्पलाइन नंबर 1800-11-4000 या 14404 पर कॉल कर सकते हैं. इसके अलावा आप 8130009809 पर अपनी श‍िकातय SMS भी कर सकते हैं. ऑनलाइन श‍िकायत दर्ज करना चाहते हैं, तो आप https://consumerhelpline.gov.in/ पर पहुंचकर खुद को रजिस्टर करने के बाद श‍िकायत दर्ज कर सकते हैं.


स्टेप 5: इस हेल्पलाइन नंबर पर आप से आपकी श‍िकायत को लेकर पूरी जानकारी हासिल की जाएगी. आप से इलेक्ट्र‍िसिटी प्रोवाइडर समेत अन्य जानकारी मांगी जाएगी. इसके आधार पर आपके मामले की सुनवाई की जाएगी.

स्टेप 6: इस स्टेज पर आपकी श‍िकायत सीधे सरकार के पास पहुंच जाती है. यहां पर आपको निवारण मिलने की संभावना ज्यादा रहती है. लेक‍िन अगर किसी मामले में आपको यहां भी राहत नहीं मिली, तो एक अंतिम रास्ता भी आपके पास है.


स्टेप 7: अगर नेशनल कंज्यूमर हेल्पलाइन पर कॉल करने के बाद भी आपके मामले का कोई समाधान नहीं निकलता, तो आप कंज्यूमर कोर्ट में जा सकते हैं. यहां बिजली का जरूरत से ज्यादा बिल आने जैसी श‍िकायतों को सुना जाता है. यहां पर आपका मामला सही पाए जाने पर आपको राहत मिलना तय है.

याद रखें: आपके साथ कभी ऐसी घटना हो और आपको समझ में नहीं आ रहा है कि क्या किया जाए, तो सबसे पहले नेशनल कंज्यूमर हेल्पलाइन पर कॉल कर लें. यहां पर आपको शिकायत दर्ज करने को लेकर गाइड किया जाएगा और उसी तरह आप अपनी श‍िकायत को आगे बढ़ा सकते हैं.

ध्यान रखें: यह बात हमेशा ध्यान रखें कि आप झूठी श‍िकायत न दर्ज करवाएं. क्योंकि ऐसे में आपको दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है. श‍िकायत को लेकर सभी जरूरी कागजात अपने पास रखें. आपके पास जितने ज्यादा प्रूफ होंगे, आपका मामला उतना ही मजबूत होगा.