Follow us:

श्रीलंका में बौद्ध और मुस्लिम समुदायों के बीच हिंसा, 10 दिनों के लिए लगाई गई इमरजेंसी

कोलंबो। श्रीलंका के कैंडी क्षेत्र में बौद्धों और मुस्लिमों के बीच हुई सांप्रदायिक हिंसा के बाद मंगलवार को देश में 10 दिनों के लिए आपातकाल घोषित कर दिया गया. सरकारी अधिकारियों ने कहा कि हिंसा में दो लोगों की मौत हो गई है. देश के मध्य हिस्से में रविवार को बहुसंख्यक बौद्ध और अल्पसंख्यक मुस्लिमों के बीच भिड़ंत हुई, जिसमें यह मौतें हुईं. करीब 20 दुकानों को जला दिया गया. इस मामले में दर्जन भर से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

राष्ट्रपति कार्यालय की मीडिया शाखा ने ट्वीट कर कहा कि राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना और कैबिनेट ने 10 दिनों के लिए आपातकाल लगाने का फैसला किया. द्वीप पर हालात सामान्य करने के लिए आपराधिक तत्वों से लोहा लेने के लिए सुरक्षा कर्मियों को अधिकार दिए गए हैं. सिरिसेना कार्यालय का बयान प्रधानमंत्री रनिल विक्रमसिंघे द्वारा संसद में दिए गए इस बयान के बाद आया कि सरकार आपातकाल लगाने के बारे में विचार कर रही है.

भारतीय क्रिकेट टीम बांग्लादेश के साथ एक त्रिपक्षीय श्रृंखला के लिए फिलहाल श्रीलंका में है. देश के खेल मंत्री दयासिरी जयशेखरा ने कहा कि इस वक्त किसी मैच को रद्द करने का कोई सवाल नहीं उठता है. सरकार ने सांप्रदायिक हिंसा पर विचार के लिए एक विशेष बैठक भी बुलाई. इस हिंसा में मुस्लिम और सिंहली शामिल हैं. सिंहलियों में अधिकतर लोग बौद्ध समुदाय के हैं.

इससे पहले दिन में, 28 वर्षीय मुस्लिम शख्स का शव कैंडी प्रांत के तेलदीनिया से बरामद किया गया जिससे इलाके में अशांति फैल गई. उसके मकान में कथित रूप से बौद्ध चरमपंथियों ने आग लगा दी थी. उसने अपने अभिभावकों को तो घर से बाहर निकाल दिया लेकिन खुद घर के अंदर फंसा रह गया. इस इमारत में करीब 20 दुकानें भी थीं जिनमें आग लगा दी गई. इसके अलावा कट्टरपंथियों ने एक मस्जिद में भी आग लगा दी.

तेलदीनिया में बौद्ध समुदाय के एक शख्स की मौत के परिणामस्वरूप अधिकारियों ने सोमवार को कर्फ्यू लगाया और कैंडी में हिंसा के लिए 20 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया था. चार मुस्लिम युवकों के साथ झड़प में उसकी हत्या कर दी गई थी. श्रीलंका की कुल आबादी में सत्तर फीसदी बौद्ध हैं. मुसलमानों की संख्या महज ग्यारह फीसदी है.

बढ़ाई गई टीम इंडिया की सुरक्षा

बीसीसीआई ने कहा कि श्रीलंका में त्रिकोणीय टी20 श्रृंखला पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार खेली जायेगी, भले ही सांप्रदायिक दंगों के बाद इस देश में आपातकाल घोषित कर दिया गया है. भारतीय क्रिकेट टीम इस त्रिकोणीय श्रृंखला में भाग लेने वाली तीन टीमों में से एक है. बीसीसीआई ने कहा,"कोलंबो में हालात पूरी तरह से सामान्य हैं." भारतीय टीम की मीडिया सेल ने कोलंबो से अधिकारिक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा,"श्रीलंका में कर्फ्यू और आपातकाल की रिपोर्ट आ रही हैं. हालात कैंडी में खराब हैं, कोलंबो में नहीं. सभी को सूचित किया जाता है कि संबंधित सुरक्षा अधिकारियों से बात करने के बाद हम समझ चुके हैं कि कोलंबो में हालात पूरी तरह से सामान्य हैं. अगर इस संबंध में कोई भी अपडेट होगा तो हम इसकी सूचना देंगे."

वरिष्ठ कांग्रेस नेता और बीसीसीआई अधिकारी राजीव शुक्ला ने कहा,"श्रीलंका सरकार ने हमें सूचित किया है कि भारतीय टीम के होटल के इर्द गिर्द अतिरिक्त सुरक्षा व्यवस्था की गयी है और हमें आश्वस्त किया गया है कि चिंता की कोई बात नहीं है." बीसीसीआई के कार्यकारी अध्यक्ष सीके खन्ना ने कहा,"भारतीय क्रिकेट बोर्ड लगातार श्रीलंका सरकार के अधिकारियों से संपर्क में हैं. सुरक्षा फूलप्रूफ है और हम आश्वस्त हो गये हैं कि टूर्नामेंट को कोई खतरा नहीं है. इसलिये फिलहाल भारतीय टीम टूर्नामेंट में खेलेगी."

Related News