Follow us:

इमरान ने दिया तोहफा- बिना पासपोर्ट आ सकेंगे भारतीय सिख, 9 और 12 नवंबर नहीं लगेगी फीस

इस्‍लामाबाद। पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने गुरु नानक देव की 550वीं जयंती पर करतारपुर जाने वाले सिख यात्रियों को कई सहूलियतों के साथ बड़ा तोहफा दिया है। उन्होंने कहा कि भारत से करतारपुर आने वाले सिख तीर्थयात्रियों को पासपोर्ट की जरूरत नहीं होगी। उन्हें सिर्फ वैध आईडी दिखाना होगा और अब 10 दिन पहले पंजीकरण नहीं कराना होगा। इसके अलावा 9 नवंबर को उद्घाटन के दिन और 12 नवंबर को गुरु नानक देव की 550वीं जयंती के दिन सिख तीर्थयात्रियों से कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा।

इस बीच भारत से करीब 1100 सिखों का पहला जत्था गुरुवार को वाघा बार्डर के जरिये पाकिस्तान पहुंच चुका है। इन सिख तीर्थयात्रियों को भी करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन में शामिल होने का मौका मिलेगा। इस गलियारे के जरिए प्रतिदिन 5,000 भारतीय तीर्थयात्री गुरुद्वारा दरबार साहिब जा सकेंगे। इसके साथ ही वे ननकाना साहिब के अलावा अन्य गुरुद्वारों में भी जा सकेंगे।

पाकिस्‍तान ने करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन समारोह में शामिल होने के लिए कांग्रेस नेता सिद्धू को भी निमंत्रण भेजा है, जिसे उन्‍होंने स्‍वीकार कर लिया है। हालांकि, विदेश मंत्रालय ने कहा कि इसके लिए 'राजनीतिक मंजूरी' लेनी होगी। बताते चलें कि सिखों के प्रथम गुरु गुरुनानक देव ने करतारपुर साहिब में अपने जीवन के अंतिम 18 साल बिताए थे। करतापुर साहिब गुरुद्वारे को पहला गुरुद्वारा माना जाता है, जिसकी नींव श्री गुरु नानक देव जी ने रखी थी।

भारत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 9 नवंबर को करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन करने के बाद पंजाब के गुरदासपुर में डेरा बाबा नानक में एक सार्वजनिक सभा को संबोधित करेंगे। इससे पहले पाकिस्तान ने गुरु नानक देव की 550 वीं जयंती को मनाने के लिए एक स्मारक सिक्का जारी किया है।

Related News