Follow us:

INDvsENG : विशाल टारगेट के सामने टीम इंडिया मुश्किल में

ओवल। भारतीय टीम सोमवार को इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें टेस्ट मैच में संकट में घिर गई। 464 रनों के टारगेट का पीछा करते हुए भारत ने चौथे दिन की समाप्ति तक दूसरी पारी में 18 ओवरों में 58 रनों पर 3 विकेट खो दिए हैं। केएल राहुल 46 और अजिंक्य रहाणे 10 रन बनाकर क्रीज पर हैं। भारत को जीत के लिए 406 रन और बनाने है जबकि उसके 7 विकेट शेष है। इससे पहले इंग्लैंड ने एलिस्टेयर कुक (147) और कप्तान जो रूट (125) के शतकों की मदद से दूसरी पारी 111 ओवरों में 8 विकेट पर 423 रन बनाकर घोषित कर दी।

विशाल लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत को ठोस शुरुआत चाहिए थी, लेकिन हुआ इसके एकदम उलटा। शिखर धवन फिर असफल रहे और मात्र 1 रन बनाकर एंडरसन की गेंद पर एलबीडब्ल्यू हो गए। एंडरसन ने एक गेंद बाद शानदार इनस्विंगर पर चेतेश्वर पुजारा एलबीडब्ल्यू किया, वो खाता भी नहीं खोल पाए। एंडरसन ने इसी के साथ ग्लेन मॅक्ग्राथ के 563 विकेटों के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली। भारत अभी इन सदमों से उबरा भी नहीं था कि ब्रॉड ने अगले ओवर में विराट को विकेटकीपर बेयरस्टो के हाथों झिलवाया। भारत 2 रनों पर 3 विकेट गंवाकर गहरे संकट में आ गया।

इंग्लैंड ने चौथे दिन सुबह 114/2 से आगे खेलना शुरू किया। कुक ने बुमराह की गेंद पर चौका लगाकर फिफ्टी पूरी की। वे 127 गेंदों में इस मंजिल तक पहुंचे।

पहले और अंतिम टेस्ट में शतक लगाने वाले पांचवें बल्लेबाज

कुक ने जडेजा की गेंद पर ओवरथ्रो के रूप में मिले पांच रनों की मदद से शतक पूरा किया। वे 201 गेंदों में 8 चौकों की मदद से इस मंजिल तक पहुंचे। यह उनका 33वां टेस्ट शतक है। वे अपने पहले और अंतिम टेस्ट मैचों में शतक लगाने वाले दुनिया के पांचवें बल्लेबाज बने। उनसे पहले रैगी डुफ, बिल पोंसफोर्ड, ग्रैग चैपल और मोहम्मद अजहरूद्दीन यह कमाल कर चुके हैं।

लंच के समय कुक 103 और रूट 92 रन बनाकर क्रीज पर थे। रूट ने जडेजा की गेंद पर 1 रन लेकर शतक पूरा किया। वे 151 गेंदों में 11 चौकों और 1 छक्के की मदद से शतक तक पहुंचे।

कुक और रूट ने तीसरे विकेट के लिए 259 रनों की भागीदारी कर अपनी टीम को मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया। हनुमाा विहारी ने लगातार दो गेंदों पर रूट और कुक को चलता किया। उन्होंने रूट को डीप मिडविकेट पर स्थानापन्न खिलाड़ी हार्दिक के हाथों झिलवाया। रूट ने 190 गेंदों में 12 चौकों और 1 छक्के की मदद से 125 रन बनाए। हनुमा ने अगली गेंद पर कुक को विकेटकीपर पंत के हाथों झिलवाया। कुक ने अपनी अंतिम पारी में 286 गेंदों का सामना कर 14 चौकों की मदद से 147 रन बनाए। जॉनी बेयरस्टो 18 रन बनाकर शमी की गेंद को स्टम्प्स पर खेल बैठे। इसके बाद बटलर बगैर खाता खोले जडेजा के शिकार बने। बेन स्टोक्स 37 रन बनाकर जडेजा के शिकार बने।

इसके पूर्व तीसरे दिन इंग्लैंड को दूसरी पारी में पहला झटका मोहम्मद शमी ने दिया जब उन्होंने कीटन जैनिंग्स को बोल्ड किया। वे गेंद को लेफ्ट करने में बोल्ड हुए। उन्होंने 10 रन बनाए। मोईन को तीसरे क्रम पर भेजने का निर्णय सफल नहीं हुआ और वे 20 रन बनाकर जडेजा की गेंद पर बोल्ड हुए। 62 रनों पर दूसरा विकेट खोने के बाद कुक और रूट ने मेहमान गेंदबाजों को पहले सत्र में कोई और सफलता हासिल नहीं करने दी।


आईसीसी महिला चैंपियनशिप के लिए श्रीलंका का दौरा करेगी भारतीय टीम
यह भी पढ़ें

भारत ने तीसरे दिन 174/6 से आगे खेलना शुरू किया, इस वक्त हनुमा 25 और जडेजा 8 रन बनाकर क्रीज पर थे। हनुमा ने स्टोक्स की गेंद पर 1 रन लेते हुए फिफ्टी पूरी की। वे डेब्यू मैच की पहली पारी फिफ्टी लगाने वाले 26वें भारतीय बल्लेबाज बने। हनुमा की शानदार पारी का अंत मोईन ने उन्हें विकेटकीपर बेयरस्टो के हाथों झिलवाकर किया। उन्होंने 7 चौकों और 1 छक्के की मदद से 56 रन बनाए और सातवें विकेट के लिए जडेजा के साथ 77 रन जोड़े।

ईशांत 4 रन बनाकर मोईन के शिकार बने। जडेजा ने मोईन की गेंद पर चौका लगाकर फिफ्टी पूरी की, यह उनकी नौवीं टेस्ट फिफ्टी है। मोहम्मद शमी मात्र 1 रन बनाकर रशीद की गेंद पर ब्रॉड को कैच थमा बैठे। बुमराह बगैर खाता खोले रन आउट हुए। जडेजा 156 गेंदों में 11 चौकों और 1 छक्के की मदद से 86 रन बनाकर नाबाद रहे।


डेल पोत्रो को हराकर जोकोविच ने जीता 14वां ग्रैंड स्लैम, सम्प्रास की बराबरी की
यह भी पढ़ें

भारत का इरादा मेजबान टीम के बल्लेबाजी प्रयास को दोहराने का रहेगा। इंग्लैंड ने भी इसी तरह 177 रनों पर 6 विकेट गंवा दिए थे, इसके बाद वह पुछल्ले बल्लेबाजों के प्रयासों से 332 रन बना पाया था। भारत भी उम्मीद करेगा कि विहारी या जडेजा में से कोई एक बड़ी पारी खेले और उसका स्कोर भी 300 के पार हो पाए।

इसके पूर्व इंग्लैंड के पहली पारी में 332 रन के जवाब में भारत का पहला विकेट जल्दी गिर गया। धवन तीन रन बनाकर ब्रॉड का शिकार हो गए। राहुल 37 रन बनाकर करैन की गेंद पर बोल्ड हुए। उन्होंने पुजारा के साथ दूसरे विकेट के लिए 64 रन जोड़े। इसके बाद एंडरसन ने मेहमान टीम को दो झटके दिए। उन्होंने चेतेश्वर पुजारा (37) को विकेटकीपर बेयरस्टो के हाथों झिलवाया। रहाणे तो उनकी गेंद पर खाता खोले बिना कुक को कैच थमा बैठे। अब उम्मीदें विराट कोहली पर टिक गई थी लेकिन वे 49 रन बनाकर बेन स्टोक्स का शिकार बने, उन्होंने रूट को कैच थमाया। स्टोक्स ने इसके बाद रिषभ पंत (5) को पैवेलियन लौटाया। एंडरसन ने 20 रनों पर 2 विकेट और स्टोक्स ने 44 रनों पर 2 विकेट लिए।

इंग्लैंड ने दूसरे दिन सुबह 198/7 से आगे खेलना शुरू किया। बटलर और रशीद ने संभलकर रन बनाते हुए धीरे-धीरे रन बनाना शुरू किए। बुमराह ने रशीद (15) को एलबीडब्ल्यू कर मेजबान टीम को झटका दिया। उन्होंने बटलर के साथ आठवें विकेट के लिए 33 रन जोड़े। बटलर ने शमी की गेंद पर 2 रन लेते हुए फिफ्टी पूरी की। यह इस सीरीज में उनकी तीसरी और कुल 10वीं फिफ्टी हैं।

इसके बाद बटलर को स्टुअर्ट ब्रॉड का सहयोग मिला और दोनों ने नौवें विकेट के लिए 98 रनों की भागीदारी कर पारी को मजबूती प्रदान की। ब्रॉड 38 रन बनाने के बाद जडेजा की गेंद पर राहुल द्वारा लपके गए। राहुल ने मिडऑन से दौड़कर डाइव लगाकर यह कैच लपका। बटलर 89 रन बनाने के बाद जडेजा की गेंद पर रहाणे को कैच दे बैठे। उन्होंने 6 चौके और 2 छक्के लगाए। जडेजा सबसे सफल गेंदबाज रहे, उन्होंने 79 रनों पर 4 विकेट लिए। ईशांत ने 62 रनों पर 3 और बुमराह ने 83 रनों पर 3 विकेट लिए।