Follow us:

आधार की वर्चुअल ID आज से करने लगेगी काम, 16 डिजिट का होगा नंबर

नई दिल्ली। आधार डाटा की सुरक्षा को पुख्‍ता बनाने के लिए अप्रैल में लॉन्‍च हुई वर्चुअल ID को 1 जुलाई से सर्विस प्रोवाइडर्स स्‍वीकार करने लगेंगे। यह ID 16 डिजिट का एक नंबर है, जिसे आधार नंबर के विकल्‍प के तौर पर इस्‍तेमाल किया जा सकेगा। वर्चुअल ID स्‍वीकार करने को लेकर आर.बी.आई. द्वारा सभी बैंकों को सिस्‍टम में बदलाव करने का आदेश था, जिसकी डेडलाइन 30 जून थी। बैंकों के अलावा अन्‍य सर्विस प्रोवाइडर्स को भी इसी डेडलाइन के तहत सिस्‍टम में बदलाव करने और 1 जुलाई से वर्चुअल ID स्‍वीकार करने का आदेश दिया गया था। वर्चुअल ID से अभी तक केवल ऑनलाइन एड्रेस अपडेट किया जा सकता था।

नहीं देना होगा 12 अंकों का आधार नंबर
यूआईडीएआई ने ट्विटर पर अपनी पोस्ट में कहा, नई सुविधा आधार धारकों को बिना सत्यापन की प्रक्रिया में अपना असली 12 अंकों का आधार नंबर दिए बिना एक वीआईडी नंबर देने की इजाजत देगी।

अगर आपको डर है कि 12 अंकों का आधार नंबर देने से पर्सनल जानकारी लीक हो सकती है, तो घबराने की जरूरत नहीं है। अब आप घर बैठे मात्र आसान से तीन स्टेप्स को फॉलो करके अपना 16 अंकों वाला वर्चुअल आधार नंबर जेनरेट कर सकेंगे।

PunjabKesari

क्या होगा फायदा
इस वर्चुअल नंबर को जेनरेट करने के बाद आपको अपना ओरिजनल आधार नंबर किसी भी थर्ड पार्टी को नहीं देना होगा। आप इस वर्चुअल नंबर का इस्तेमाल बैंक अकाउंट खोलने, सरकारी सब्सिडी के लिए, तत्काल पासपोर्ट बनवाने के लिए और नई इन्श्योरेंस पॉलिसी खरीदने के लिए कर सकते हैं।

कैसे करेगी काम
वर्चुअल ID के आने से अब लोगों को हर जगह अपना आधार नंबर देने की जरूरत नहीं रहेगी। नागरिक सर्विस प्रोवाइडर्स को आधार नंबर की बजाय इस 16 डिजिट वाली वर्चुअल ID को दे सकेंगे। इससे आधार की बायोमेट्रिक डिटेल्‍स सिक्‍योर रखने में एक और लेयर जुड़ जाएगी। 16 नंबर वाली वर्चुअल ID दरअसल कंप्‍यूटर द्वारा बनाया गया नंबर है, जो जरूरत पर तत्‍काल जारी किया जाएगा। वर्चुअल ID को अनगिनत बार जनरेट कर सकेंगे। यह ID सिर्फ कुछ समय के लिए ही वैध रहेगी, इससे इस ID का गलत इस्तेमाल होने की आशंका न के बराबर होगी। साथ ही काम हो जाने पर इसे डिएक्टिवेट भी किया जा सकेगा। इसके अलावा इसका एक फायदा यह भी है कि एजेंसियां आपके आधार की पूरी डिटेल एक्सेस नहीं कर पाएंगी। इससे वह सिर्फ उतनी ही जानकारी देख या पा सकेंगे, जितना उनके लिए जरूरी है।

ऐसे कर सकते हैं जनरेट

UIDAI वेबसाइट uidai.gov.in पर आधार की वर्चुअल ID को जनरेट करने की सुविधा अप्रैल से ही शुरू हो चुकी है। हालांकि mAadhar ऐप के जरिए इसे जनरेट नहीं किया जा सकता है।
ID जनरेशन के लिए uidai.gov.in पर 'आधार सर्विसेज' सेक्‍शन के 'वर्चुअल ID जनरेटर' ऑप्‍शन पर जाएं।
अब नए खुले पेज में आधार नंबर और सिक्‍योरिटी कोड डालकर OTP जनरेट करें। OTP आपके UIDAI में रजिस्‍टर्ड मोबाइल नंबर पर आएगा।
OTP एंटर करने के बाद आप वर्चुअल ID को जनरेट या रिट्रीव कर सकेंगे।
इसके बाद ID के सक्‍सेसफुल जनरेशन का मैसेज शो होने लगेगा।