Follow us:

मध्यप्रदेश : आदिवासियों को कमलनाथ सरकार का एक और तोहफा, बच्चे के जन्म पर कराएगी भोज

भोपाल। मध्यप्रदेश की झाबुआ विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव के लिए तारीख की घोषणा नहीं हुई है लेकिन इस आदिवासी बहुल इस सीट को लेकर कांग्रेस की कमलनाथ सरकार आदिवासियों को लुभाने में जुट गई है। गत दिनों विश्व आदिवासी दिवस पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आदिवासियों को साहूकारों के कर्ज से मुक्ति के साथ ही उनके लिए कई घोषणा की थी।

अब सरकार ने आदिवासियों को एक और तोहफा देते हुए उनके परिवारों में बच्चे के जन्म पर भोज कराने का निर्णय लिया है। साथ ही आदिवासियों के परिवार में किसी की मौत होने पर सरकार की तरफ से अनाज दिया जाएगा। यह जानकारी मंगलवार को प्रदेश के जनसम्पर्क मंत्री पीसी शर्मा ने मीडिया से बातचीत में दी।

आदिवासी वर्ग के विकास की चिंता
उन्होंने बताया कि हमारी सरकार आदिवासियों के यहां बच्चा होने पर भोज देगी। इसके लिए सरकार ने नियमावली जारी कर दी है। मुख्यमंत्री मदद योजना के तहत यह प्रावधान किया गया है। सरकार की इस योजना का लाभ राज्य के 89 आदिवासी विकासखंडों को मिलेगा। मृत्युभोज के लिए सरकार संबंधित परिवार को अनाज वितरण भी करेगी। जनसम्पर्क मंत्री ने कहा कि यह हमारी सरकार के द्वारा उठाया जाने वाला अच्छा कदम है। हम आदिवासी वर्ग के विकास की चिंता करते हैं।

कांग्रेस आदिवासियों को लुभाने में जी-जान से जुटी
उल्लेखनीय है कि लोकसभा चुनाव में झाबुआ संसदीय सीट पर भाजपा द्वारा स्थानीय विधायक गुमान सिंह डामोर का टिकट दिया था। उन्होंने लोकसभा चुनाव में जीतने के बाद विधायक पद से इस्तीफा दे दिया, जिसके चलते झाबुआ विधानसभा क्षेत्र में अब उपचुनाव होगा। मध्यप्रदेश में पिछले 15 साल सत्ता से दूर रहने के बाद कांग्रेस को वापसी कराने में आदिवासियों की अहम भूमिका रही है। अब झाबुआ उपचुनाव पर दोनों प्रमुख दलों भाजपा और कांग्रेस ने अपना फोकस कर दिया है। कांग्रेस आदिवासियों को लुभाने में जी-जान से जुटी हुई है।

इसी के चलते बीते दिनों विश्व आदिवासी दिवस पर प्रदेश में सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की गई और इसी दिन मुख्यमंत्री कमलनाथ ने उनके साहूकारों के कर्जों को माफ करने की घोषणा भी थी। अब सरकार ने आदिवासी परिवारों में बच्चे के जन्म पर भोज का आयोजन करने का ऐलान किया है। साथ ही मृत्युभोज के लिए भी सरकार अनाज देगी। 

Related News