Follow us:

देश में सिर्फ 2.5 % आबादी पर कांग्रेस का राज, ममता की तृणमूल से भी हुई छोटी

नई दिल्ली। कर्नाटक विधानसभा चुनाव के बाद मतगणना के रुझानों में भाजपा के बहुमत मिलता दिखाई दे रहा है। रूझानों के मुताबिक , भाजपा ने 106 सीटों पर बढ़त बनाई है , जबकि कांग्रेस 73 सीटों पर आगे चल रही है। कर्नाटक विधानसभा चुनावों की तस्वीर साफ होने के साथ ही कांग्रेस अब केवल तीन राज्यों में सिमट कर रह गई है। इसमें भी एक राज्य ऐसा है, जिसमें इसी साल के अंत तक चुनाव होने हैं। ऐसे में कांग्रेस अब केवल एकमात्र पूर्ण राज्य पंजाब में रह गई है। इसके अलावा केंद्र शासित पुडुचेरी में भी उसकी सरकार है। पूर्वोत्तर के छोटे राज्य मिजोरम में भी कांग्रेस है, लेकिन वहां पर कांग्रेसी सरकार का कार्यकाल इसी साल पूरा होने वाला है।

आजादी के पहले और देश की सबसे पुरानी पार्टी का रुतबा रखने वाली कांग्रेस की ऐसी हालत 70 साल में कभी नहीं हुई। भाजपा 21वें राज्य में अपनी सरकार बनाने की ओर बढ़ रही है। वहीं कांग्रेस की नुमाइंदगी देश में घटकर सिर्फ 2.5 फीसदी आबादी पर रह गई है। इसमें भी चौंकाने वाली बात ये है कि क्षेत्रीय दलों का कंट्रोल कांग्रेस से ज्यादा है। तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी), ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कडग़म (एआईएडीएमके), तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) और तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) भी इस मामले में कांग्रेस से आगे हैं।

वहीं कर्नाटक विधानसभा चुनाव के रूझानों में भाजपा को जीत की ओर बढ़ता देख पूरे राज्य में भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच जश्न का माहौल है। राज्य में 12 मई को हुए चुनाव के लिए आज सुबह 38 केंद्रों पर मतगणना शुरू हुई थी। यहां भाजपा मुख्यालय पर और कलबुर्गी , हुबली - धारवाड़ , मेंगलुरू और शिमोगा समेत पूरे कर्नाटक में पार्टी कार्यालयों में एकत्र हुए पार्टी कार्यकर्ताओं और समर्थकों के बीच मिठाईयां बांटी गई। जैसे - जैसे परिणाम आते गए भाजपा कार्यकर्ताओं का उत्साह बढ़ता गया। रूझानों में भाजपा ने बढ़त जारी रखी है और सत्तारूढ़ कांग्रेस पिछड़ती दिख रही है। पार्टी कार्यकर्ता ‘‘ भारत माता की जय ’’, ‘‘ नरेंद्र मोदी की जय ’’ और ‘‘ भाजपा की जय ’’ जैसे नारे लगा रहे थे। दूसरी ओर बेंगलुरू में कांग्रेस मुख्यालय में सन्नाटा पसरा है।