Follow us:

नए मोटर कानून के खिलाफ ट्रांसपोर्ट यूनियन का चक्का जाम, दिल्ली-NCR में सड़कों से ऑटो-टैक्सी नदारद, आम लोग परेशान

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर में आज बढ़े हुए चालान के खिलाफ ट्रांसपोर्ट हड़ताल है. हड़ताल के समर्थन में दिल्ली-एनसीआर के कई ट्रांसपॉर्ट यूनियन शामिल हुए हैं. वाहनों की हड़ताल का सबसे ज़्यादा बुरा असर आम लोगों पर पड़ा है. सुबह दफ्तर निकलने वाले लोगों को असुविधा हो रही है. दिल्ली की सड़कों पर आम दिनों के मुकाबले आज कम ट्रैफिक देखने को मिल रहा है। 

वाहनों की हड़ताल का सबसे ज़्यादा बुरा असर आम लोगों पर पड़ा है. सुबह दफ्तर निकलने वाले लोगों को असुविधा हो रही है. दिल्ली की सड़कों पर आम दिनों के मुकाबले आज कम ट्रैफिक देखने को मिल रहा है.

निज़ाममुद्दीन रेलवे स्टेशन पर टैक्सी ड्राइवर नारे बाज़ी कर रहे हैं. बकारीब 250- 300 टैक्सी लाइन लगाकर खड़ी हैं. ड्राइवरों में एमसीडी टोल टैक्स टैग RFID को लेकर नाराज़गी है और बढ़े हुए चालान को वापस लेने की मांग कर रहे हैं

जो ऑटो इस वक़्त चल रही है, उनके चालकों का कहना है कि अगर सड़कों पर हड़ताल को लेकर माहौल खराब हुआ तो वो भी घर वापस चले जाएंगे.

संवाददाता वरुण जैन ने बताया है कि दिल्ली के शक्ति नगर इलाके के एक स्कूल नव भारती पब्लिक स्कूल में अभिभावक जब बच्चों को छोड़ने पहुंचे तो पैरेंट्स को स्कूल में छुट्टी होने का पता चला. अभिभावक स्कूल मैनेजमेंट से नाराज़ नज़र आए कि इतनी मुश्किलों के बाद हम बच्चों को खुद छोड़ने आए और स्कूल आकर छुट्टी का पता चला.

स्कूल बस ड्राइवर्स का कहना है के यह स्ट्राइक सही है. इतना ज़्यादा चालान नहीं होना चाहिए. सीट बेल्ट हेलमेट जो सुरक्षा की चीजें हैं उन्हें लेकर अगर चालान है तो वह सही है. लेकिन वो भी इतना ज़्यादा नहीं होना चाहिए.

स्कूल ड्राइवर्स का कहना है कि उनको स्कूल ट्रांसपोर्ट की तरफ से बच्चों की सुरक्षा को मद्देनजर रखते हुए बसों को सड़कों पर नहीं लेकर जाने के इंस्ट्रक्शंस मिले हैं. जिसके चलते ए एनएस स्कूल के ड्राइवर्स आज बसों से बच्चों को लेने नहीं पहुंचे। 

Related News