Follow us:

मदरसों के कायाकल्प में जुटी मोदी सरकार, 3E योजना में 5 साल में 5 करोड़ छात्रों को स्कॉलरशिप देने का प्लान

नई दिल्ली। पीएम मोदी ने मुसलमानों के अच्छे दिन के लिए जो प्लान बनाया है, वो 17 करोड़ मुसलमान का आज नहीं बल्कि आने वाली कई पीढ़ियों की जिंदगी बदल देगा। मोदी सरकार 2 में बड़ा फैसला होने जा रहा है. सरकार ने मदरसों के कायाकल्प का पूरा प्लान बनाया है. अल्पसंख्यक मामलों के केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने खुलासा किया है कि सरकार ने अगले 5 साल में 5 करोड़ छात्रों को स्कॉलरशिप देने की 3E योजना बनाई है।

5 साल में 5 करोड़ छात्रों को स्कॉलरशिप देने का प्लान

3E का मतलब है-एजुकेशन, एम्प्लायमेंट और एम्पावरमेंट. इनमें 50 प्रतिशत से ज्यादा लड़कियों को शामिल किया जाएगा.केंद्र सरकार पांच करोड़ से ज्यादा गरीब अल्पसंख्यक वर्गों के गरीब छात्र छात्राओं को स्कॉलरशिप देगी. इसका मतलब साफ है कि अगर पढ़ेंगे बच्चे तो बढ़ेंगे बच्चे. अगर परिवार का एक बच्चा भी पढ़ लिया तो समझ लीजिए कि उससे आने वाली कई पीढ़ियों के लिए रास्ता खुलेगा।

मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि देशभर में बड़ी संख्या में मौजूद मदरसों को औपचारिक और मुख्यधारा की शिक्षा से जोड़ा जाएगा, जिससे मदरसों के बच्चे भी समाज के विकास में योगदान दे सकें. जानकारी के मुताबिक इस योजना की शुरुआत अगले माह से हो जाएगी। 

ANI @ANI

#WATCH Union Minister of Minority Affairs Mukhtar Abbas Naqvi: Madrasas which are there in large number across the country are to be connected with the formal education & mainstream education so that those children in Madrasas can also contribute in the development of the society

553
6:05 PM - Jun 11, 2019
162 people are talking about this
Twitter Ads info and privacy

अगले माह से हो जाएगी इस योजना की शुरुआत

इस योजना की शुरुआत अगले माह से हो जाएगी. मौलाना आज़ाद एजुकेशन फाउंडेशन की 112 वीं संचालन परिषद एवं 65 वीं महासभा बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि मदरसों में मुख्यधारा की शिक्षा हिंदी, अंग्रेजी, गणित, विज्ञान, कंप्यूटर आदि में मिलनी चाहिए।

मोदी सरकार की नीतियों की तारीफ करते हुए नकवी ने कहा, ''मोदी सरकार ने 'सांप्रदायिकता की बीमारी' और तुष्टिकरण की राजनीति को खत्म करके स्वस्थ समावेशी विकास का माहौल बनाया है. इस दौरान केंद्र 'अधिकार, न्याय और अखंडता की सरकार' साबित हुआ है.'' उन्होंने कहा कि मोदी सरकार 'समवेसी विकस, सर्वेश्वरी विस्वास (विश्वास के साथ समावेशी विकास)' के लिए प्रतिबद्ध है। 

Related News