Follow us:

धार- युवती का अपहरण कर दुष्कर्म करने वाले आरोपियों को कोर्ट ने सुनाई सजा

धार-मनावर। फोटो खिंचवाने के लिए गई युवती का अपहरण कर उसके साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपी तथा उसके दोस्त को न्यायालय द्वारा साथ 7-7 वर्ष के सश्रम कारावास एवं 25 हजार रूपये के अर्थदंड से दंडित किया गया। घटना के अनुसार दिनांक 13 जनवरी 2015 को पीड़िता युवती अपने छोटे भाई के साथ उमरबन फोटो खिंचवाने आई थी। फोटो खिंचवाने के बाद वापस बस स्टैंड से उखल्दा रोड घाटी के पास मोबाइल में गाने भरवाने जा रही थी। दोपहर करीब 2ः30 बजे आरोपी मिथुन पिता रूपसिंह भिलाला तथा संजय पिता विजयसिंह भिलाला दोनो निवासी देगावां तहसील धरमपुरी मोटरसाइकिल से आए और आरोपी मिथुन ने पीड़ित को औरत बनाने की नियत से उसे मोटरसाइकिल पर जबरदस्ती बिठा लिया और बोला चिल्लाएगी तो जान से खत्म कर दूंगा। फिर आरोपी पीडिता को उखल्दा रोड बयड़ी के नीचे नाले में ले गया और उसके साथ दुष्कर्म किया और आरोपी मिथुन उसे वापस उमरबन छोड़ गया। घटना के बाद युवती ने उसके भाई अनिल को फिर दोनो ने उसके चचेरे भाई गजेंद्र को घटना बताई। घटना के दिन पीड़िता के पिता इंदौर मजदूरी करने गए हुए थे। उन्हें मोबाइल पर सूचना दी गई। पिता के वापस आने पर पीड़िता ने थाने में आरोपी के विरुद्ध 363, 366, 376, 506/34 भादवि एवं 3/4 पास्को एक्ट के तहत प्रकरण पंजिबद्ध किया गया। घटना के बाद पीडिता ने लोक लाज के डर से जहर खाकर आत्महत्या कर ली। मामले में अपराध धारा 306 बढाई गई। आत्महत्या करने से पूर्व पीड़िता ने मृत्युपुर्व कथन आरोपी के विरूद्ध दर्ज करवा दिये थे। प्रकरण में अनुसंधान उपनिरीक्षक ज्योति पटेल तथा उमरबन चैकी प्रभारी एसएन द्विवेदी द्वारा किया गया। प्रकरण मनावर न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश आर के जैन के न्यायालय में 17 अभियोजन सक्षियों के कथन लिये गये। न्यायालय में मुख्यतः मृतिका/पीडिता के परिजन पक्षद्रोही हो गए। मेडिकल साक्ष्य के आधार पर पीड़िता को वयस्क माना गया। मुख्यतः प्रकरण में पीडिता की एफआईआर, मृत्युकालीन कथन एवं न्यायालय में 164 के कथन में पीड़िता ने आरोपीगण द्वारा उसके साथ किए गए कृत्य को बताया। जिस पर न्यायालय ने विश्वास करते हुए आरोपीगणों को उनके द्वारा किये गये कृत्य के लिए दोषी पाया। विचारण के पश्चात न्यायालय द्वारा आरोपी मिथुन पिता रुपसिंह जाती भिलाला उम्र 24 वर्ष निवासी ग्राम देगांवा तहसील धरमपुरी को अपराध धारा 366/34 व 376 भादवि में 7-7 वर्ष के सश्रम कारावास एवं 10 हजार रूपये के अर्थदंड से दंडित किया। उसके साथी अन्य आरोपी संजय पिता विजयसिंह आयु 25 वर्ष जाति भिलाला निवासी ग्राम देगांवा तहसील धरमपुरी को अपराध धारा 306, 366/34 व 306 में 7-7 वर्ष के सश्रम कारावास एवं 15 हजार रूपये के अर्थदंड से दंडित किया। अर्थदंड की राशी मृतिका/पीडिता को अपिल अवधि पश्चात प्रदान किये जाने का आदेश भी दिया गया। आरोपीगणों को जेल भेजा गया। प्रकरण में शासन की और से पैरवी लोक अभियोजक शरद कुमार पुरोहित द्वारा की गई।