Follow us:

धार- नर्मदा बचाव आंदोलन के तहत बंद पडे स्कूल की सफाई कर की मरम्मत

धार-निसरपुर। सरदार सरोवर बाँध से प्रभावित नर्मदा घाटी के चिखलदा मूलगांव में बंद पड़े स्कूल में नर्मदा बचाव आंदोलन की प्रमुख मेघा पाटकर और गांववासियो द्वारा सफाई और मरम्मत का काम किया गया और एक रैली गांव में निकाली गई जिसमें महिलाओ, बच्चो ओर पुरुषों ने भी हिस्सा लिया। कई बच्चों के माता पिता इस स्कूल को सुचारू रूप से मूलगांव में फिर से चालू करवाने के लिए आगे आए क्योंकि पुनर्वास में स्कूल शिफ्ट कर देने के कारण कई बच्चों की शाला छूट गई थी। बच्चों को पैदल 5-6 कि.मी पुनर्वास स्थल पर जाना पड़ता है।इसमें कई लोगो के पास मोटरसाइकिल व अन्य साधन होने के कारण उनके बच्चे स्कूल पहुँच पाते है लेकिन जो गरीब परिवार के बच्चे हैं जिनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है उन्हें स्कूल पहुँचने में परेशानी होती है इस कारण कई बच्चों का शाला में जाना ही छूट गया है शिकायत निवारण प्राधिकरण ने 2017 में भी आदेश दिया था कि मूल गांव में स्कूल चालू की जाए लेकिन इसका आज तक पालन नहीं किया गया है । राष्ट्रीय बाल अधिकार आयोग ने 2017 में पूर्व की सरकार को भी पत्र लिखा था लेकिन उसका भी पालन नही हुआ। यह स्थिति देखते हुए नर्मदा बचाओ आंदोलन द्वारा स्कूल को पुनः चालू करने के लिए एक अभियान चलाया जिसके चलते बच्चे फिर से मूलगांव में स्कूल जा सकेंगे।