Follow us:

Pak पर तल्ख सुषमा स्वराज की दो टूक- इमरान इतने उदार हैं, तो मसूद अजहर को हमें दे दें

नई दिल्ली। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बुधवार को कहा कि पाकिस्तान जब तक अपनी जमीन से चल रहे आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करता तब तक भारत की उससे कोई बातचीत नहीं हो सकती। उन्होंने कहा कि आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं चल सकते हैं।

'इंडियाज वर्ल्ड: मोदी गवर्नमेंट्स फॉरेन पॉलिसी पर बातचीत में उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को अपनी खुफिया एजेंसी आईएसआई और अपनी सेना पर नियंत्रण करने की जरूरत है, जो बार-बार द्विपक्षीय रिश्तों को बर्बाद करने पर तुले हैं। उन्होंने कहा कि हम आतंकवाद पर बात नहीं चाहते, हम उस पर कार्रवाई चाहते हैं। आतंक और बातचीत साथ-साथ नहीं चल सकते।

बालाकोट हमले पर स्वराज ने कहा कि भारत ने खासतौर पर आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ठिकाने को निशाना बनाया। उन्होंने कहा कि जैश की तरफ से पाकिस्तानी सेना ने हम पर हमला क्यों किया? आप न सिर्फ जैश को अपनी जमीन पर पाल रहे हैं, बल्कि उन्हें वित्त पोषित कर रहे हैं। और जब पीड़ित देश प्रतिरोध करता है तो आप आतंकी संगठन की तरफ से उस पर हमला करते हैं।

उन्होंने कहा- अगर इमरान खान इतने उदार हैं, तो उन्हें हमें मसूद अजहर को सौंप दें। विदेश मंत्री ने कहा कि भारत के पाकिस्तान से अच्छे रिश्ते हो सकते हैं, लेकिन पड़ोसी देश अपनी जमीन पर आतंकी समूहों के खिलाफ कार्रवाई करे।

सुषमा ने कहा कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद उन्होंने दुनिया के कई देशों को बता दिया कि भारत पाकिस्तान के साथ तनाव को बढ़ाएगा नहीं। मगर, यदि उस देश से कोई और हमला होता है तो हम चुप नहीं बैठेंगे। पाकिस्तान को डर था कि भारत सीमा पर तनाव को बढ़ा सकता है और उसने इसके लिए कई विदेश मंत्रियों से संपर्क साधा था।

उन्होंने बताया कि इसे लेकर उनके पास कई विदेश मंत्रियों के फोन आए और पुलवामा हमले की निंदा के साथ तनाव को न बढ़ाने की अपील की। इस पर हमने उनसे कहा कि हम तनाव को नहीं बढ़ाएंगे लेकिन यदि कोई दूसरा आतंकी हमला होता है तो हम शांत नहीं बैठेंगे क्योंकि हम पुलवामा को अपनी नियति नहीं मान सकते हैं।

Related News