Follow us:

Asia Cup 2018 : 3 साझेदारियां, जिन्होंने सातवीं बार टीम इंडिया को बनाया चैंपियन

नई दिल्ली : एशिया कप के फाइनल में टीम इंडिया ने एक बार फिर से बांग्लादेश के सपने को चकनाचूर करते हुए खिताब अपने नाम किया. वनडे के अपने इतिहास में बांग्लादेश कभी भी वनडे का फाइनल नहीं जीत पाया है. इस मैच में एक समय उसने मैच को ऐसी स्थिति में पहुंचा दिया था, जहां से मैच में कुछ भी हो सकता था, लेकिन टीम इंडिया के खिलाड़ियों ने इस रोमांचक मैच में अपने फैंन को बिल्कुल निराश नहीं किया. हालांकि इस मैच में फैंस की सांसें ऊपर नीचे होती रहीं. आखिरी बॉल पर टीम इंडिया को बांग्लादेश के खिलाफ जीत मिली.

आखिरी ओवर में टीम इंडिया को 6 बॉल में 6 रन बनाने थे. स्ट्राइक पर कुलदीप यादव थे. लग रहा था कुछ अनहोनी न हो जाए, लेकिन टीम ने ये मैच 3 विकेट से जीत लिया. इस मैच में ध्यान से देखा जाए तो कई कारण जीत के रहे. लेकिन इस मैच में तीन साझेदारियां ऐसी रहीं, जिन्होंने मैच की दिशा बदल दी.

1. दिनेश कार्तिक और महेंद्र सिंह धोनी की सबसे बड़ी साझेदारी
टीम इंडिया ने जब 3 विकेट जल्दी जल्द खो दिए, ऐसे में टीम के दो सबसे अनुभवी बल्लेबाजों ने जिम्मेदारी को बखूबी निभाया. दिनेश कार्तिक के साथ मिलकर महेंद्र सिंह धोनी ने 54 रनों की साझेदारी की. दिनेश कार्तिक ने 37 रन बनाए. वहीं महेंद्र सिंह धोनी ने 36 रन बनाए. इन दोनों के आउट होते ही टीम इंडिया एक बार फिर से संकट में फंस गई. धोनी ने विकेट के पीछे भी कमाल करते हुए इसी मैच में नया रिकॉर्ड बनाया. उन्होंने 2 स्टंपिंग करने के साथ ही विकेटों के पीछे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 800 शिकार पूरे किए.  

Related News
Real Time Visit Counter