Follow us:

Indian Railways: आपके फायदे के लिए रेलवे कर रहा है नियमों में बदलाव, 1 अप्रैल से लागू होगी ये सुविधा

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे (ndian Railways ) एक अप्रैल से यात्रियों के लिए नई सुविधा देने जा रहा है। एयरलाइंस की तरह रेलवे भी एक ही यात्रा के दौरान एक के बाद दूसरी ट्रेनों से सफर करने वाले यात्री को अब संयुक्त पैसेंजर नेम रिकॉर्ड (PNR) जारी करेगा। इस नए नियम के लागू होने के बाद रेलवे यात्रियों को पहली ट्रेन के देर होने की वजह से अगली ट्रेन के छूट जाने पर बिना किसी चार्ज के आगे की यात्रा रद्द करने की इजाजत देगा। रेलवे का ये नया नियम सभी क्लास के यात्रियों पर लागू होगा।

ये है नया नियम और ऐसे करेगा काम

ट्रेन की टिकट बुक कराते समय हर यात्री को एक पीएनआर नंबर मिलता है। ये नंबर एक यूनिक कोड है, जिससे आपकी ट्रेन, यात्रा और आपकी जानकारी का पता चलता है। अगर आपने दो ट्रेन बुक की हैं, तो आपके नाम पर दो पीएनआर जनरेट होते हैं। हालांकि नए नियम के आ जाने से ऐसा नहीं होगा। क्योंकि हालही में भारतीय रेलवे ने अपने कुछ नियमों में बदलवा किए है। नए नियम के तहत दो पीएनआर को लिंक करना आसान कर दिया है, फिर चाहे आपने टिकट ऑनलाइन बुक की हो या काउंटर पर। ऐसा करने से पैसेंजर को आसानी से रिफंड मिल जाएगा।

रिफंड के लिए ये होगी शर्तें

रिफंड के लिए रेलवे ने कुछ शर्तें बताई है। पहली शर्त ये है कि, दोनों टिकट पर पैसेंजर की डिटेल एक जैसी हो। दूसरा नियम जिस स्टेशन पर पहली ट्रेन पहुंची है और जिस स्टेशन से दूसरी ट्रेन पकड़नी है दोनों स्टेशन एक होने चाहिए। रेलवे का ये नया नियम सभी क्लास के लोगों के लिए मान्य होंगे।

ये होंगे रिफंड के नए नियम

अगर किसी स्टेशन पर रिफंड नहीं मिल पाता है तो आपके द्वारा भरी गई TDR, 3 दिन के लिए मान्य रहेगी। आपके रिफंड का पूरा पैसा आपको CCM या रिफंड ऑफिस से मिल जाएगा। अगर आपने काउंटर से रिजर्वेशन की टिकट ली है तो, पहली ट्रेन आने के असल टाइम के 3 घंटे के अंदर आप अपनी दूसरी ट्रेन को कैंसिल करा सकते हैं। इससे रिफंड का पैसा काउंटर पर ही मिल जाएगा। अगर टिकट ऑनलाइन बुक की है तो जिस स्टेशन पर पहली ट्रेन पहुंची है और जिस स्टेशन से दूसरी ट्रेन पकड़नी है उस स्टेशन पर TDR भरना पडे़गा। पूरी जानकारी देने के बाद ही पूरा रिफंड मिलेगा।

Related News