Follow us:

1 मई से ट्रेन टिकट को लेकर बदलने जा रहा यह नियम, पहले जान लें तो होगा फायदा

Indian Railway अपने यात्रियों के लिए कुछ ना कुछ नया लेकर आ रहा है। इसी कड़ी में 1 मई से एक नई व्यवस्था लागू होने जा रही है और वो आपके टिकट रिजर्वेश से जुड़ी है। इस व्यवस्था के लागू होने से यात्रियों को फायदा होगा लेकिन इसके लिए कुछ नियम भी होंगे।

रेलवे की इस नई व्यवस्था के तहत रेलवे बोर्ड ने यात्रियों की सहूलियत के लिए टिकट सिस्टम में बड़ा बदलाव किया है। इसके बाद अगर यात्री चाहे तो कंफर्म टिकट बुक होने के बाद भी अपना बोर्डिंग स्टेशन बदल सकते हैं। खास बात यह है कि यात्री एक नहीं दो बार बोर्डिंग बदल सकते हैं। नियमों में बदलाव से यात्रियों को राहत मिलेगी। बोर्डिंग बदलने पर यात्री को अतिरिक्त किराया नहीं देना होगा, लेकिन अगर 24 घंटे के अंदर बदला है तो रिफंड नहीं मिलेगा।

यूं मिलेगा फायदा

- रेलवे की इस नई सुविधा के अनुसार यात्री ट्रेन प्रस्थान करने के समय से 4 घंटे पहले तक अपना बोर्डिंग स्टेशन चेंज कर सकेंगे।

- अब तक यह नियम था कि ट्रेन के प्रस्थान से चार घंटे पहले तक सिर्फ आरक्षण चार्ट तैयार किया जाता था, लेकिन अब यात्री अपना बोर्डिंग स्टेशन भी बदल सकेंगे।

- IRCTC के पोर्टल irctc.co.in के अनुसार, एक यात्री जिसने ई-टिकट बुक किया है, वह ट्रेन के निर्धारित प्रस्थान के 24 घंटे पहले ऑनलाइन अपना बोर्डिंग स्टेशन बदल सकता है।

- यात्री ऑनलाइन आईआरसीटीसी की वेबसाइट या फिर टिकट काउंटर से भी बोर्डिंग स्टेशन बदल सकते हैं।

- इसके अलावा रेलवे इंक्वायरी नंबर 139 पर कॉल करके भी यात्री बोर्डिंग स्टेशन में बदलाव कर सकता है।

- पुराने नियम के अनुसार यदि किसी यात्री ने एक बार बोर्डिंग स्टेशन में बदलाव किया है, तो वह फिर पुराने बोर्डिंग प्वाइंट से ट्रेन नहीं पकड़ सकता।

- यदि यात्री बोर्डिंग प्वाइंट चेंज करने के बाद भी पुराने स्टेशन से ही ट्रेन में सवार हुआ है तो उसे दोनों स्टेशन के बीच का किराया देना होगा।

- बोर्डिंग प्वाइंट में केवल एक ही बार बदलाव किया जा सकता है। इतना ही नहीं बोर्डिंग स्टेशन को प्रस्थान समय से 24 घंटे पहले तक बदला जा सकता है।

- टिकट सीज होने के बाद बोर्डिंग प्वाइंट चेंज करना मान्य नहीं है। इसके साथ ही तत्काल बुकिंग टिकट पर भी बोर्डिंग प्वाइंट चेंज करने का ऑप्शन नहीं दिया जाता है