Follow us:

Reliance Jio लाने जा रही सुपर ऐप, अमेजन, फ्लिपकार्ट को मिलेगी टक्कर

नई दिल्ली। मोबाइल और इंटरनेट मार्केट में धाक जमाने के बाद अब रिलायंस इंडस्ट्रीज के सीएमडी मुकेश अंबानी दुनिया के सबसे बड़े ऑनलाइन-टु-ऑफलाइन ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म को लॉन्च करने की तैयारी कर रहे हैं। उनका यह कदम बाजार में पहले से मौजूद अमेजन और वालमार्ट-फ्लिपकार्ट को कड़ी टक्कर देने की ताकत रखता है। इन सब के बीच खबर यह भी है कि रिलायंस जियो एक सुपर ऐप बनाने पर काम कर रही है, जिसमें एक ही प्लेटफॉम पर उपयोगकर्ताओं को 100 से अधिक सेवाएं मिलेंगी।

रिलायंस जियो मोबाइल वॉयस कॉल और डाटा कारोबार में पहले ही देश में 30 करोड़ से अधिक उपभोक्ता बना चुकी है। विशेषज्ञों के मुताबिक इस स्थिति में सुपर ऐप को लांच करने के बाद रिलायंस जियो भारतीय बाजार में सबसे दमदार स्थिति में पहुंच जाएगी। अब तक स्नैपडील, पेटीएम, फ्रीचार्ज, फ्लिपकार्ट और हाइक जैसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म को भारत में बहुत अधिक सफलता नहीं मिल पाई है।

यह मिलेगी सुविधाएं

सीएमआर के इंडस्ट्री इंटेलीजेंस ग्रुप के प्रमुख प्रभु राम ने कहा कि बाजार में जियो डिवाइस की व्यापक मौजूदगी रिलायंस को एक दमदार स्थिति उपलब्ध कराती है। रिलायंस जियो के सुपर ऐप के जरिये एक ही जगह पर ईकॉमर्स, ऑनलाइन बुकिंग और पेमेंट्स की सुविधा मिलेगी।

एक के बाद एक अधिग्रहण और निवेश के जरिए रिलायंस जियो ने अनेक टेक्नोलॉजी लेयर बना लिए हैं, जिनमें कन्वर्सेसनल आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई) लेयर, वर्नाक्यूलर वॉयस टेक लेयर, लॉजिस्टिक्स लेयर और एआई आधारित एजुकेशन लेयर शामिल हैं। ये सभी लेयर और इसके साथ जियो डिवाइसेज का विशाल नेटवर्क रिलायंस जियो को प्रतिस्पर्धियों के मुकाबले सबसे दमदार स्थिति में पहुंचा देगा।

2021 तक 84 अरब डॉलर का हो जाएगा बाजार

एक रिपोर्ट के मुताबिक तेजी से विकास कर रहा भारत का ईकॉमर्स बाजार 2021 तक 84 अरब डॉलर (करीब 5.8 लाख करोड़ रुपए) का हो जाएगा। 2017 में यह बाजार 24 अरब डॉलर (करीब 1.7 लाख करोड़ रुपए) का था। रिलायंस जियो के ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म की एंट्री से इस बाजार में भारी उथल-पुथल मचने की संभावना है। मुकेश अंबानी के मुताबिक नए ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म का लक्ष्य देश के करीब तीन करोड़ व्यापारियों के जीवन में सुधार लाना है। यह प्लेटफॉर्म उन्हें वे सभी काम करने में सक्षम बना देगा, जो बड़ी कंपनियां और स्थापित ईकॉमर्स कंपनियां कर सकती हैं।

अंबानी ने पिछले साल नवंबर में मेक इन ओडिशा कॉन्क्लेव में कहा था कि रिलायंस दुनिया के सबसे बड़े ऑनलाइन-टु-ऑफलाइन नए कॉमर्स प्लेटफॉर्म बनाने पर काम कर रही है। मोबाइल कारोबार को सफलता पूर्वक खड़ा करने के बाद जियो अब कम कनेक्टिविटी वाले घरों और कंपनियों के बाजार को ग्लोबल स्टैंडर्ड का बनाने पर ध्यान केंद्रित कर रही है। इसके लिए वह अगली पीढ़ी वाली गीगाफाइबर एफटीटीएच सेवाओं का इस्तेमाल कर रही है। जनवरी-मार्च 2019 तिमाही में रिलायंस जियो इंफोकॉम ने एकल आधार पर अपने शुद्ध लाभ में 64.7 प्रतिशत बढ़ोतरी दर्ज की है।