Follow us:

SBI ग्रहकों को बड़ा झटका, बैंक ने वापस ली रेपो रेट आधारित होम लोन स्कीम, अब होगा यह

नई दिल्ली। रिजर्व बैंक द्वारा घटाई और बढ़ाई जाने वाली रेपो रेट पर बैंकों की ब्याज दरें तय होती थीं। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया देश का पहला ऐसा बैक है जिसने रेपो रेट से सीधे होम लोन को जोड़ दिया था ताकि रेपो रेट में हुई कटौती का फायदा ग्राहकों को तत्काल मिल सके, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा।

बैंक ने एक बड़ा कदम उठाते हुए रेपो रेट पर आधारित होम लोन स्कीम वापस ले ली है। बैंक ने यह स्कीम दो महीने पहले ही लागू की थी। बैंक के इस कदम के बाद होम लोन ग्राहकों को बड़ा झटका लगेगा। भारतीय स्टेट बैंक ने जुलाई में रेपो रेट आधारित होम लोन स्कीम शुरू की थी।

बैंक ने अपने ट्वीटर हैंडल पर एक ग्राहक के सवाल के जवाब में लिखा है कि बैंक ने रेपो रेट आधारित स्कीम वापस ले ली है। अब आप एमसीएलआर आधारित होम लोन ले सकते हैं। एसबीआई ने अपनी वेबसाइट से रेपो रेट आधारित होम लोन का लिंक भी हटा दिया है।

रिजर्व बैंक ने निर्देश दिया है कि एक अक्टूबर से सभी बैंक रेपो रेट को बेस मानकर ही लोन की ब्याज दरें तय करेंगे। लेकिन, इस मामले में ज्यादा जानकारी के लिए बैंक को भेजी गई ईमेल का कोई जवाब नहीं आया है।

अब नई स्कीम लॉन्च करेगा एसबीआई?

उम्मीद की जा रही है कि एसबीआई एक नई लोन स्कीम शुरू करेगा, जो एक्सटर्नल बेंचमार्क से जुड़ा होगा। वैसे आरबीआई ने सभी बैंकों को एक्सटर्नल बेंचमार्क पर आधारित लोन इंटरेस्ट रेट तय करने को कहा है।

एक्सटर्नल बेंचमार्क

-आरबीआई का रेपो रेट

- सरकार के तीन महीने के ट्रेजरी बिल की यील्ड

- सरकार के 6 महीने के ट्रेजरी बिल की यील्ड

- फाइनेंशियल बेंचमार्क इंटरेस्ट रेट

भारतीय रिजर्व बैंक के निर्देश पर ही एसबीआई ने रेपो रेट आधारित होम लोन स्कीम शुरू की थी। ऐसी स्कीम शुरू करने वाल यह पहला बैंक था। एसबआई के चेयरमैन रजनीश कुमार ने पहले कहा था कि वह लंबी अवधि के होम लोन पर रिजर्व बैंक से स्पष्टीकरण लेंगे। ये लांग टर्म लोन शुरू में फिक्स्ड और बाद में फ्लोटिंग होते हैं। कुमार ने कहा कि कुछ ग्राहक ऐसे हैं, जो अपना होम लोन फिक्स्ड चाहते हैं, लिहाजा इसमें स्पष्टीकरण नहीं है।

Related News