Follow us:

गोरखपुर - बच्चों की मौत पर बड़ा खुलासा, लापरवाही से गई 63 मरीजों की जान

गोरखपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शहर में स्थित बाबा राघवदास मेडिकल कालेज में पिछले 48 घंटे में 63 मरीजों की मौत हो गई। मरने वालों में लगभग 3 दर्जन बच्चे हैं। इनमें से अधिकांश मरीजों की मौत अॉक्सीजन न मिलने के कारण हुई। हालांकि प्रशासन का कहना है कि 2 दिन में 30 मरीजों की मौत हुई है।

ऑक्सीजन सप्लाई ठप्प होने से 32 बच्चों की मौत
योगी के गृह जिला गोरखपुर में बी.आर.डी. मैडीकल कालेज में प्रशासन की लापरवाही के चलते इंसेफेलाइटिस के मरीजों के लिए बने 100 बैड के आई.सी.यू. सहित दूसरे आई.सी.यू.व वार्डों में देर रात से रुक-रुक कर ऑक्सीजन सप्लाई ठप्प होने से 32 बच्चों सहित 63 मरीजों की मौत हो गई। सूत्रों के अनुसार मैडीकल कालेज के नेहरू अस्पताल में ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली फर्म का 69 लाख रुपए का भुगतान बकाया था जिसके चलते गुरुवार शाम को फर्म ने अस्पताल में लिक्विड ऑक्सीजन की आपूर्ति ठप्प कर दी।

गुरुवार से ही मैडीकल कालेज में जम्बो सिलैंडरों से गैस की आपूर्ति की जा रही थी। बी.आर.डी. मैडीकल कालेज में 2 साल पहले लिक्विड ऑक्सीजन का प्लांट लगाया गया था। इसके जरिए इंसेफेलाइटिस वार्ड सहित करीब 300 मरीजों को पाइप के जरिए ऑक्सीजन दी जाती है। पहली बार रात 8 बजे इंसेफेलाइटिस वार्ड में ऑक्सीजन सिलैंडर से की जा रही सप्लाई ठप्प हो गई। इसके बाद वार्ड को लिक्विड ऑक्सीजन से जोड़ा गया। यह भी रात 11.30 बजे खत्म हो गई।

यह देख वहां तैनात ऑप्रेटर के होश उड़ गए। उसने जिम्मेदार अधिकारियों को फोन मिलाना शुरू किया लेकिन किसी ने जवाब नहीं दिया। इस बीच रात 1.30 बजे तक सप्लाई ठप्प रही। वार्ड में भर्ती 50 से अधिक मरीज बेहोशी की हालत में थे। उनकी हालत अचानक बिगड़ने लगी। डॉक्टर व स्टाफ सन्नाटे में आ गए। चेहरे पर तनाव था लेकिन रात में कोई जुबान खोलने को तैयार नहीं था। खबर लिखे जाने तक 32 बच्चों की मौत हो चुकी थी, लेकिन यह आंकड़ा अधिक हो सकता है।

6 महीने से नहीं मिली थी पेमैंट
कंपनी का कहना है कि उन्हें 6 महीने से पेमैंट नहीं मिली थी। लड़के जाते थे तो दिन भर खड़े रहते थे लेकिन पिंसीपल उनसे नहीं मिलते थे। 3 साल पहले कांट्रैक्ट हुआ था लेकिन कभी पेमैंट नहीं रुकी। इस बार 6 महीने से भुगतान रुका हुआ है।

ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी बोली- 83 लाख हैं बकाया
हॉस्पिटल को ऑक्सीजन सिलैंडर पुष्पा सेल्स नाम की कंपनी सप्लाई करती है। इसके यू.पी. डीलर मनीष भंडारी ने कहा कि मैडीकल कालेज पर हमारा 83 लाख रुपए ड्यू है। अाज 22 लाख की पेमैंट मिली। कल को 40 लाख की और मिलेगी। राजस्थान से एक ट्रक लिक्विड ऑक्सीजन भेजा गया है। यह आज रात पहुंच जाएगा। मामले में कालेज पिंसीपल राजीव मिश्रा दोषी हैं। उन्होंने पेमैंट रोक रखी थी।

Related News