Follow us:

धार- भाजपा विधायक वेलसिंह भूरिया के विवादित बोल, पत्रकारों की तुलना कर दी कुत्तो से, खुद को बताया एकलव्य के खानदान का, पत्रकारों में रोष...

धार-सरदारपुर। अपने बिगड़े बोल के लिये कई बार चर्चा में आये सरदारपुर विधायक वेलसिंह भूरिया ने एक बार फिर विवाद में आ गए हैं। कल बुधवार को सरदारपुर जनपद परिसर में आयोजित कृषक सम्मेलन में विधायक वेलसिंह भूरिया ने पत्रकारों पर ही अपशब्द कह डाले हैं। विधायक भूरिया ने खुद को एकलव्य के खानदान का बताते हुवे पत्रकारों की तुलना कुत्ते से कर डाली। विधायक का इस तरह का बयान सामने आने के बाद पत्रकारों में रोष व्याप्त हैं।

पत्रकार मिले दारूवाली पार्टी से

कल कृषक सम्मेलन में विधायक वेलसिंह भूरिया बतौर मुख्य अतिथि के मंच पर बैठे। जब विधायक भूरिया को किसानों को संबोधित करने के कहाँ तो विधायक भूरिया पत्रकारों पर ही बरस गये। विवादित बोल के बाद पत्रकारों द्वारा लगाई जाने वाली खबरों से विधायक भूरिया नाराज थे और इसी की नाराजगी उन्होंने शासकीय मंच पर निकालते हुवे पत्रकारों को अपशब्द कह डाले। विधायक वेलसिंह भूरिया ने कहाँ की " हम इतना कार्य कर रहे हे और हमारी सरकार भी इतना कार्य कर रही हैं। लेकिन लोगो के बहकावे में नही आना हैं। कांग्रेस के कुछ पत्रकारों से मिलकर, टीवी वालों से मिलकर सरकार को बदनाम करने का काम करते हैं.. सब पत्रकार महोदय ऐसे नही हैं.. सब पत्रकार बहुत अच्छे हैं.. लेकिन उसमे दो चार से मंगू-चंगू हैं.. वो क्या करते हैं मालूम हैं.. वो गौतम की दारू वाली पार्टी से मिलकर सरकार को बदनाम करने का प्रयास करते हैं.. उन लोगो से आप सावधान रहना.. में भी एकलव्य के खानदान की औलाद हूं.. कोई कुत्ता भौकता है तो सारे के सारे तीर उनके मुंह में डालने की ताकत रखता हूँ.. लेकिन मैंने वो मौका समय और वक्त को दे दिया हैं.. समय आएगा तो हम सब बताएंगे वो तीर ओटोमेटिक उसके मुंह में चले जाएंगे.. और मुह बन्द करा दिया जायेगा"। विधायक भूरिया यही तक नही रुके इसके आगे उन्होंने कहा कि " अच्छे काम करो.. वेलसिंह भूरिया ने ऐसा कर दिया। 
बोले वेलसिंह भूरिया की जुबान फिसल गई.. मतलब विधायक को बच्चा समझते हैं.. और वो दो कौड़ी का पत्रकार जो आठवी फेल.. सब नही.. सब अच्छे दूसरे लोग है.. लेकिन दो चार छः वो मेरी नजर में हैं.. उनके लिए मैने समय व्यक्त को दे दिया हैं.. वक्त आने पर सब हो जाएगा..

विधायक वेलसिंह भूरिया के इस तरह के बोल आने के बाद राजनितिक गलियारों में फिर हलचल मच गई हैं। आपको बता दे की विधायक भूरिया उस पार्टी के हैं जिसके संस्थापक पं. दीनदयाल उपाध्याय रहे हैं। प्रदेश मुखिया और संगठन खुद को कितना भी स्वच्छ क्यों नही बता दे लेकिन विधायक भुरिया के बोल आने के बाद भाजपा कितनी स्वच्छ हैं इसका अंदाजा लगाया जा सकता हैं।