Follow us:

मध्यप्रदेश/ सियासी अखाड़ा बना मंदसौर : शिवराज का धरना, कमलनाथ-सिंधिया भी देखेंगे 'बर्बादी' का हाल

भोपाल, मंदसौर। मध्य प्रदेश में बाढ़ से हुई बर्बादी से जूझ रहे लोग फिर से अपने आशियाने बसाने के संघर्ष में जुटे हुए हैं| वहीं इस बर्बाद पर सियासत ख़त्म होने का नाम नहीं ले रही है| प्रदेश की राजनीति में मंदसौर सत्ता का केंद्र बन गया है। किसान गोलीकांड के बाद से मंदसौर को लेकर प्रदेश में राजनीति शुरू हुई जो अब तक जारी है। शिवराज सरकार के समय किसान गोलीकांड को लेकर कांग्रेस ने सरकार की घेराबंदी की थी, अब जब कांग्रेस सरकार में हैं तो भाजपा सरकार को घेरने में लगी है। खास बात यह है कि शिवराज सिंह चौहान आज मंदसौर में अनशन कर रहे हैं। उनका अनशन चौबीस घंटे का है। इसके बाद 23 सितंबर को मुख्यमंत्री कमलनाथ मंदसौर जाएंगे, इस दौरान वे बाढ़ पीडि़तों के लिए बड़ा ऐलान कर सकते हैं| पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भी मंदसौर जिले के दौरे पर रहेंगे, वहीं ज्योतिरादित्य सिंधिया भी 24 को बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करेंगे| आने वाले कुछ दिन नेताओं की आवाजाही से राजनीति का पारा गर्म रहने वाला है| क्यूंकि दोनों ही दल के नेता एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप में जुटे हुए हैं|

बाढ़ से हुए नुकसान के बाद प्रभावितों को राहत देने और किसानों की फसल नुकसानी पर मुआवजा देने की मांग को लेकर आज पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान 24 घंटे का कलेक्टोरेट के सामने पूरे संसदीय क्षेत्र के लोगों को लेकर धरना देंगे तो रात्रि जागरण के बाद सरकार को सद्बुद्धि के लिए भजन-कीर्तन भी करेंगे। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह भी गांवों में बाढ़ प्रभावितों के बीच पहुंचेगे। 23 को मुख्यमंत्री कमलनाथ भी पहुँच रहे है, जिसको लेकर प्रशासन तैयारियों में लगा है। बाढ़ के बाद नेताओं के दौरे के बीच जिले में राजनीति का हाईवोल्टेज ड्रामें का दौर जारी है।

सरकार की सद्धबुद्धि के लिए करेंगे हवन

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान कलेक्टोरेट के बाहर धरना देंगे। यह धरना 24 घंटे तक चलेगा। इस दौरान यहां पर वह रात्रि जागरण भी करेंगे और सरकार की सद्बुद्धि के लिए यहां चौहान का भजन-कीर्तन का भी आयोजन है। शिवराज के धरना प्रदर्शन को सफल बनाने बड़ी तैयारियां की गई हैं| मंदसौर-नीमच जिले के अलावा रतलाम जिले के जावरा विधानसभा क्षेत्र से भी बाढ़ प्रभावित व पीडि़त लोगों के साथ किसानों को भी इस प्रदर्शन में शामिल होंगे|

सरकार सक्रिय, दौरे पर रहेंगे मंत्री

विपक्षी नेताओं के आरोपों के बाद सरकार भी सक्रिय है और मंत्रियों ने दौरे शुरू कर दिए हैं| प्रभारी मंत्री हुकुम सिंह कराड़ा शनिवार को मंदसौर दौरे पर रहेंगे| कार्यक्रम के अनुसार प्रभारी मंत्री कराड़ा अमरपुरा तथा धुंधडका में बाढग्रस्त क्षेत्रों का भ्रमण करेंगे। इसके बाद वह फिर नीमच जाएंगे। प्रभारी मंत्री 23 सितंबर को फिर जिले में आएंगे और कचनारा में बाढग्रस्त क्षेत्रों का दौरा करेंगे। साथ ही सीएम के कार्यक्रम में शामिल होंगे। इसके बाद वह नीमच जाएंगे। दिग्विजय सिंह भी जिले के दौरे पर रहेंगे| जिला कांग्रेस अध्यक्ष प्रकाश रातडिया ने बताया कि पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह 21 सितंबर को 4 बजे अमरपुरा व धुंधडका आएंगे। और बाढ़ प्रभावितों के बीच पहुंचेगे। मप्र शासन के नगरीय प्रशासन मंत्री जयवद्र्धन सिंह 23 सितंबर को मंदसौर आएंगे। यहां वो बाढ़ पीडि़तों के बीच पहुंचे और नुकसानी को देखेंगे।

बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में 24 को पहुंचेंगे सिधिंया

पूर्व केंद्र्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिधिंया भी जिले में बाढ़ प्रभावितों से मिलने के लिए आ रहे है। २४ सितंबर को वह मंदसौर आएंगे। पहले २५ सितंबर का दौरा तय हुआ था, लेकिन अब २४ को आ रहे है। वह उदयपुर से होकर नीमच जिले के रामपुरा क्षेत्र में पहुंचेगे। वहां से झार्डा, नारायणगढ़ होते हुए जिले में आएंगे और विभिन्न क्षेत्रों में निरीक्षण करेते हुए प्रभावितों के बीच जाएंगे। इसके बाद यहां से जावरा क्षेत्र में जाएंगे और फिर भोपाल रवाना हो जाएंगे।

 

 

 

Related News