Follow us:

सोनिया गांधी के डिनर में लगेगा विपक्षी दलों का जमावड़ा, मोदी को घेरने के लिए बनेगी रणनीति

नई दिल्ली। संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) अध्यक्ष सोनिया गांधी 2019 लोकसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के विरुद्ध व्यापक मोर्चा बनाने की चर्चा के बीच आज एक भोज देंगी. जिसमें 17 विपक्षी दलों के नेताओं के पहुंचने की संभावना है. कांग्रेस सूत्रों के अनुसार आंध्र प्रदेश की सत्तारुढ़ तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी), बीजेडी और टीआरएस के नेताओं को नहीं निमंत्रित किया गया है. टीडीपी ने हाल ही में अपने मंत्रियों को नरेंद्र मोदी सरकार से हटा लिया है लेकिन वह एनडीए का घटक बनी हुई है. बीजेडी ओडिशा में जबकि टीआरएस तेलंगाना में सत्तारूढ़ है. तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) अध्यक्ष चंद्रशेखर राव तीसरे मोर्चे के गठन की बात कर चुके हैं.

उन्होंने बताया कि झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और झारखंड विकास मोर्चा के नेता बाबूलाल मरांडी, झारखंड मुक्ति मोर्चा के हेमंत सोरेन, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के प्रमुख जीतन राम मांझी बैठक में पहुंचेंगे. मांझी ने हाल ही में राजग का साथ छोड़कर लालू प्रसाद के आरजेडी के साथ हाथ मिला लिया .

लालू प्रसाद के बेटे और बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव के पहुंचने की संभावना है लेकिन तत्काल इसकी पुष्टि नहीं हुई है. तृणमूल कांग्रेस के सुदीप बंदोपाध्याय, डीएमके की कनिमोई, समाजवादी पार्टी के रामगोपाल यादव, माकपा के सीताराम येचुरी, भाकपा के डी राजा, जेडीएस, केरल कांग्रेस, इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग, रिवोल्युशनरी सोशलिस्ट पार्टी और आरएलडी के नेताओं के भाग लेने की संभावना है.

आपको बता दें कि हालिया विधानसभा चुनाव में भी विपक्षी दलों खासकर कांग्रेस और माकपा को भारी नुकसान का सामना करना पड़ा है। विपक्षी दल अलग-थलग होकर चुनाव लड़ रही है। हालांकि टीएमसी, आरजेडी, एनसीपी, समाजवादी पार्टी और माकपा कई बार विपक्षी दलों के गठबंधन पर जोड़ देती रही है।