Follow us:

करोड़ों की प्रॉपर्टी खोने के भय से करवाई थी कमलेश जैन की हत्या

मंदसौर। पिपलियामंडी के कमलेेश जैन की हत्या के 70 दिन बाद पुलिस ने मास्टरमाइंड सहित तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। हत्या का मास्टरमाइंड पिपलियामंडी का ही प्रॉपर्टी और कपड़ा व्यवसायी सुधीर जैन है। उसकी विधवा बहू से कमलेश जैन शादी करने वाला था। करोड़ों की प्रॉपर्टी खोने के डर से सुधीर जैन और धीरज अग्रवाल ने अखेपुर के आजम लाला को 50 लाख रुपए की सुपारी देकर हत्या करवाई। जैन पर गोली चलाने वाला आरोपी नाबालिग है।

एसपी मनोज कुमार सिंह ने बुधवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पिपलियामंडी के प्रॉपर्टी और कपड़ा व्यवसायी सुधीर पारसमल जैन (48) का हत्या में हाथ होने के सबूत मिले। सुधीर के छोटे भाई नवीन की मृत्यु के बाद उसकी विधवा पत्नी की शादी सुधीर संपन्न् परिवार में करना चाहता था, ताकि नवीन के हिस्से की संपत्ति विधवा बहू और उसके दो बच्चों को नहीं देना पड़े। बहू ने शादी से इंकार कर सुधीर जैन और उसके भाई मनोज जैन से प्रॉपर्टी में अपना हिस्सा मांगा।

सामाजिक दबाव के चलते दोनों भाइयों ने आंशिक संपत्ति देकर उसे मंंदसौर भेज दिया। विधवा को संपत्ति में हिस्सा दिलाने के लिए कमलेश जैन उसके संपर्क में आया। इसी बीच दोनों के बीच प्रेम हो गया। दोनों 2 जून 2017 को विवाह करने वाले थे। सुधीर जैन को यह बात पता चली तो उसेे लगा कि कमलेश जैन जैसे सक्रिय व्यक्ति से विवाह होने पर वह सारी संपत्ति पर अपना हक जता सकती है।

ऐसे रची साजिश

सुधीर जैन के अखेपुर के आजम पिता कय्यूम लाला और गोपाल राठौड़ उर्फ संन्यासी निवासी नारायणगढ़ से संबंध हैं। उसने इन दोनों की मदद से कई विवादित प्रॉपर्टी खरीदी और इसमें मध्यस्थता मीनाक्षी ढाबे का संचालक धीरज पिता जसवंत अग्रवाल (28) करता था। सुधीर के कहने पर धीरज ने प्रतापगढ़ जेल में बंद आजम लाला और मंदसौर जेल में बंद गोपाल संन्यासी से संपर्क किया।

11-12 मई को कमलेश को रास्ते से हटाने का षड्यंत्र शुरू हुआ। 50 लाख रुपए में हत्या की सुपारी दी गई। इसके लिए सुधीर द्वारा दिए अग्रिम 5 लाख रुपए धीरज ने अखेपुर में आजम के नाबालिग लड़के को सौंप दिए। शेष रकम 45 लाख रुपए की गारंटी गोपाल संन्यासी ने ली। नाबालिग ने धीरज को रेकी करने के लिए चोरी के मोबाइल और सिम दी।

आजम लाला और गोपाल संन्यासी ने जेल से ही धर्मेंद्र पिता अशोक घारू निवासी प्रतापगढ़ को कमलेश की रेकी करते को कहा। 31 मई 17 को आजम का नाबालिग लड़का पिस्टल और कारतूस लेकर चचेरे भाई सलमान उर्फ सम्मू लाला पिता शेर बादशाह पठान निवासी अखेपुर के साथ मोटरसाइकिल से पिपलियामंडी पहुंचा और कमलेश जैन की गोली मारकर हत्या कर दी।

सलमान लाला की तलाश

पुलिस ने नाबालिग जैद पिता आजम खां पठान निवासी अखेपुर, धीरज अग्रवाल और सुधीर जैन को गिरफ्तार कर लिया है। आजम लाला और धर्मेंद्र घारु प्रतापगढ़ जेल में हैं, गोपाल संन्यासी मंदसौर जेल में हैं। अब सलमान लाला की तलाश की जा रही है। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से मोटरसाइकिल, पिस्टल और मोबाइल जब्त कर लिया है।