Follow us:

गंजबासौदा के पूर्व विधायक हरिसिंह समर्थकों ने सीएम को घेरा, कार के सामने नारेबाजी

विदिशा। गंजबासौदा विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के पूर्व विधायक हरिसिंह रघुवंशी को टिकट नहीं मिलने से नाराज सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने मंगलवार की शाम दिवाली पूजा के लिए विदिशा आए सीएम शिवराजसिंह चौहान को घेर लिया। कार्यकर्ताओं ने करीब 15 मिनट तक सीएम और श्री रघुवंशी के समर्थन में नारेबाजी कर गंजबासौदा से श्री रघुवंशी को टिकट देने की मांग की।


एक दिन पहले ही भाजपा ने गंजबासौदा सीट से पूर्व नपाध्यक्ष लीना जैन को प्रत्याशी घोषित किया है। इसके विरोध में सोमवार की रात को भी रघुवंशी समर्थकों ने गंजबासौदा में जमकर हंगामा किया था। सीएम के दौरे की सूचना मिलते ही मंगलवार की दोपहर सौ से अधिक वाहनों से रघुवंशी समर्थक विदिशा में एसएटीआई स्थित हेलीपेड पहुंचे।

शाम करीब 5.30 बजे सीएम हेलीकॉप्टर से उतरकर कार में बैठकर निकले तो इन कार्यकर्ताओं ने उन्हें घेर लिया। जिस पर सीएम कार से उतरे। इस दौरान रघुवंशी महासभा के जिलाध्यक्ष कैलाश रघुवंशी, सिद्धीक हुसैन, अरविंद निंबालकर, लालजीराम रघुवंशी, अजय रघुवंशी आदि ने गंजबासौदा से प्रत्याशी बदलकर रघुवंशी को टिकट देने की बात कही। सीएम ने उन्हें सीएम हाउस आकर चर्चा करने को कहा।

इसके बाद सीएम कार में बैठकर जाने लगे, तब भी कार्यकर्ता 100 मीटर तक चलकर कार के सामने नारेबाजी करते रहे। जिस पर सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें हटाया। स्थानीय भाजपा नेताओं का दावा है कि गंजबासौदा क्षेत्र के लगभग 200 गांवों के प्रतिनिधि पूर्व विधायक श्री रघुवंशी के समर्थन में आए थे। इनमें रघुवंशी समाज सहित अन्य समाजों के प्रतिनिधि भी शामिल थे।

लीना बोलीं-ये कार्यकर्ताओं का विरोध नहीं

गंजबासौदा की भाजपा प्रत्याशी लीना जैन दोपहर में कलेक्ट्रेट में नामांकन जमा करने पति संजय जैन और कार्यकर्ताओं के साथ आई। विरोध प्रदर्शन के सवाल पर उनका कहना था कि उनके टिकट का विरोध करने वाले भाजपा कार्यकर्ता नहीं है। कुछ लोग नाराज हो सकते हैं, लेकिन उन्हें मना लिया जाएगा।

राघवजी बोले, खुला है निर्दलीय चुनाव लड़ने का विकल्प

इधर, शमशाबाद विधानसभा क्षेत्र से अपनी बेटी ज्योति शाह के लिए टिकट मांग रहे पूर्व वित्तमंत्री राघवजी का कहना है कि यदि पार्टी ने टिकट नहीं दिया तो उनके सामने निर्दलीय चुनाव लड़ने का विकल्प खुला है। इसके लिए 8 नवंबर को कार्यकर्ताओं की बैठक बुलाई है। जिसमें कार्यकर्ताओं के कहने पर वे या ज्योति निर्दलीय चुनाव लड़ सकती हैं। उन्होंने सपाक्स के लिए भी दरवाजे खुले रखे हैं।

वहीं शमशाबाद से राजश्रीसिंह का नाम चर्चा में आने के संबंध में राघवजी ने कहा कि जिन लोगों ने पूर्व प्रधानमंत्री अटलविहारी वाजपेयी का नामांकन फार्म जमा करने के दौरान पत्थर बरसाए थे, उनको प्रत्याशी बनाना पार्टी के लिए सोचनीय विषय है।

Related News