Follow us:

बांग्लादेश ने टेलिकॉम ऑपरेटर्स से कहा- बंद करो रोहिंग्या शिविरों में सेवाएं, बढ़ रहे हैं अपराध

ढाका। बांग्लादेश ने सोमवार को देश के टेलिकॉम ऑपरेटरों को देश के दक्षिण-पूर्व में शिविरों में रह रहे लगभग दस लाख रोहिंग्या शरणार्थियों की मोबाइल फोन सेवाएं बंद करने का आदेश दिया। इस शिविर में हाल के हफ्तों में हिंसा फैल रही है। इन शिविरों में रहने वाले अधिकांश निवासी दो साल पहले रोहिंग्या मुस्लिम अल्पसंख्यकों पर हुए एक सैन्य हमले के बाद म्यांमार के राखीन राज्य से भागकर आए थे। मगर, अब यह बांग्लादेश की सुरक्षा के लिए खतरा बन गए हैं। वहां अपराध की घटनाएं तेजी से बढ़ रही हैं और सरकार इससे परेशान है।

बांग्लादेश दूरसंचार नियामक आयोग (बीटीआरसी) के प्रवक्ता जाकिर हुसैन खान ने कहा कि दूरसंचार ऑपरेटरों के पास शिविरों में नेटवर्क बंद करने के लिए की गई कार्रवाइयों पर रिपोर्ट देने के लिए सात दिन हैं। उन्होंने कहा कि कई शरणार्थी मोबाइल फोन का इस्तेमाल शिविरों में कर रहे हैं। हमने ऑपरेटरों से इसे रोकने के लिए कार्रवाई करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि यह फैसला सुरक्षा को देखते हुए किया गया है।

पुलिस ने बताया कि शरणार्थियों के खिलाफ नशीले पदार्थों की तस्करी, हत्या, डकैती, गिरोह से लड़ने और पारिवारिक झगड़े के लगभग 600 मामले दर्ज किए गए थे। बांग्लादेश ने इससे पहले भी रोहिंग्या बस्तियों में मोबाइल फोन की पहुंच को प्रतिबंधित करने की कोशिश की थी। मगर, इस कदम को गंभीरता से लागू नहीं किया गया था। शिविरों में मोबाइल फोन सेटों और सिम कार्ड की ब्रिकी तेजी से बढ़ रही है।

पुलिस प्रवक्ता इकबाल हुसैन ने इस फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि शरणार्थी म्यांमार से करोड़ों डॉलर मूल्य की मेथम्फेटामाइन गोलियों की तस्करी करने जैसी आपराधिक गतिविधियों को अंजाम देने के लिए मोबाइल फोन का दुरुपयोग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस फैसले का सकारात्मक असर पड़ेगा। मेरा मानना ​​है कि इससे आपराधिक गतिविधियों में निश्चित रूप से कमी आएगी।

रविवार को पुलिस ने कहा कि संदिग्ध रोहिंग्या अपराधियों ने स्थानीय सत्तारूढ़ पार्टी के अधिकारी उमर फारुख की हत्या कर दी थी। फारुक की हत्या के बाद 22 अगस्त को एक शरणार्थी शिविर की ओर जाने वाले राजमार्ग को अवरुद्ध करने के लिए सैकड़ों लोगों की उग्र भीड़ जमा हो गई थी। भीड़ ने टायर जलाए और रोहिंग्याओं की दुकानों में तोड़-फोड़ की थी।

उधर, रोहिंग्या शरणार्थियों का कहना है कि हाल ही में हुए रक्तपात से शिविर में भय का माहौल है, जहां सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। राइट्स समूहों ने पहले बांग्लादेश पुलिस पर हत्याओं का आरोप लगाया है। उनके एक नेता ने नाम प्रकाशित न करने के अनुरोध पर कहा कि सरकार के इस फैसले से रोहिंग्या चौंक गए हैं। उन्होंने कहा कि प्रतिबंध से रोहिंग्या लोगों का जीवन बहुत प्रभावित होगा।

कॉक्स बाजार के सीमावर्ती जिले में बिखरे विभिन्न शिविरों के बीच उन लोगों का संचार बाधित होगा। हम म्यांमार या दुनिया के अन्य हिस्सों में रहने वाले अपने रिश्तेदारों के साथ बात-चीत नहीं कर सकेंगे। रोहिंग्या नेता ने कहा कि हम लोग अपने प्रवासी रोहिंग्या द्वारा भेजे गए धन पर भरोसा करते हैं और आमतौर पर उन्हें पैसे ट्रांसफर किए जाने की सूचना फोन पर मिलती है।