Follow us:

94 फीसदी दुष्कर्म पीड़िताएं जान पहचान वालों की ही बनीं शिकार, NCRB रिपोर्ट में बड़ा खुलासा

नई दिल्ली। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो (NCRB) की हाल ही में आई रिपोर्ट बेहद चौंकाने वाली है। साल 2018 में दर्ज हुए दुष्कर्म के मामलों में रिपोर्ट में खुलासा किया गया है कि 94 फीसदी मामलों में दुष्कर्म करने वाले लोगो पीड़िता की जान पहचान के ही थे। महिलाओं के साथ होने वाले यौन अपराधों की गंभीरता को दर्शाती हुई इस रिपोर्ट में कहा गया है कि युवतियां और महिलाएं अपने घरों, आस-पड़ोस और कार्यस्थलों में भी सुरक्षित नहीं है। साल 2018 में दुष्कर्म के 33,356 मामले दर्ज हुए थे। इनमें से 2,780 मामलों में अपराधी परिवार का ही कोई सदस्य निकला था।

रिपोर्ट में है यह चौंकाने वाली जानकारी

NCRB रिपोर्ट के मुताबिक 2018 में दर्ज हुए सभी मामलों में से 15,972 मामलों में आरोपी पीड़िता का कोई जान पहचान वाला ही निकला। इसमें पड़ोसी, परिवार का कोई मित्र या जहां पीड़िता नौकरी करती थी उसका मालिक ही था। वहीं, 12,568 मामलों में आरोपी या तो दोस्त था या फिर Online Friend या लिव-इन पार्टनर निकला, जिसने लड़कियों या उन महिलाओं को जो अपने पति से अलग हुईं थी शादी का झांसा देकर दुष्कर्म किया था।

साल 2018 में दुष्कर्म के दर्ज हुए सभी केसों में से सिर्फ 2,036 मामले ऐसे निकले जिसमें आरोपी या तो अज्ञात था या फिर उसकी पहचान नहीं हो सकी है। 33,356 केस में से 31,320 मामलों में अपराधी पीड़िता की पहचान का था। रिपोर्ट के मुताबिक दुष्कर्म के सबसे ज्यादा मामले मध्यप्रदेश (5,209) में सामने आए। इसके बाद राजस्थान में 3,748, उत्तर प्रदेश में 3,718 केस दर्ज हुए। देश की राजधानी दिल्ली में 1,215 दुष्कर्म के मामले दर्ज हुए। इनमें से अकेले दिल्ली में ही 1,194 मामलों में आरोपी पी़ड़िता का परिचित निकला।

हर उम्र की महिलाएं बनी शिकार

NCRB की रिपोर्ट के मुताबिक दुष्कर्म की शिकार हर उम्र की महिलाएं बनी हैं। इसमें नाबालिग बच्चियों से लेकर 60 साल से ऊपर की उम्र की बुजुर्ग महिलाएंं भी शामिल हैं।