Follow us:

Sri Lanka Blasts : अमीर बिजनेसमैन परिवार के दो भाईयों ने अंजाम दिए कोलंबो में धमाके

कोलंबो। श्रीलंका के कोलंबो में हुए सीरियल ब्लास्ट में चौंकाने वाली खबरें सामने आ रही हैं। पुलिस को जांच में पता चला है कि इन बम धमाकों में श्रीलंका के सबसे अमीर घर के दो भाई शामिल थे। उनके घर के आस-पास रहने वाले लोगों का कहना है कि उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि यह परिवार इस तरह की किसी घिनौनी साजिश में शामिल हो सकता है।

महावेला गार्डेन्स के व्हाइट हाउस में रहने वाले दो भाई ईस्टर रविवार को हुए आत्मघाती हमले के मुख्य साजिशकर्ता निकले। ईस्टर रविवार को हुए सिलसिलेवार आतंकी हमले में 359 लोगों की मौत हुई है और 500 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं। इस मामले में पुलिस ने अब तक 58 लोगों को गिरफ्तार किया है, जिसमें सबसे ज्यादा संख्या इसी परिवार के सदस्यों की है।


पुतिन और किम जोंग उन के बीच रूस के व्लादीवोस्तक में आज होगी पहली मुलाकात
यह भी पढ़ें

परिवार के एक नजदीकी सूत्र ने बताया, 33 वर्षीय इंसाफ इब्राहिम लग्जरी होटल शंगरी-ला होटल में ब्रेकफास्ट की कतार में खड़ा था और फिर उसने खुद को बम से उड़ा लिया। वह कॉपर फैक्ट्री का मालिक था। एक शख्स ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर बताया कि जब पुलिस हमले के बाद उसके घर पर दबिश देने के लिए पहुंची, तो छोटे भाई इल्हाम इब्राहिम ने बम से खुद को उड़ा दिया।

इस आत्मघाती हमले में उसकी पत्नी और उनके तीन बच्चों की मौत हो गई। दरअसल, उसे डर था कि उसका नाम सामने आने के बाद उससे बदला लिया जा सकता है। बताया जा रहा है कि इस हमले में तीन कमांडो की भी मौत हो गई है। इन हमलों ने पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया है।

अब इब्राहिम का घर पुलिस टेप से घेर लिया गया है। पुलिस ने दोनों आत्मघाती हमलावरों के पिता मोहम्मद इब्राहिम को गिरफ्तार कर लिया है, जो एक समृद्ध मसाला व्यापारी हैं और इलाके के कारोबारी समुदाय में उसका प्रभुत्व है। उसके 6 बेटे और तीन बेटियां हैं। दोनों भाइयों का नाम स्थानीय मीडिया में प्रकाशित किया गया है, लेकिन पुलिस ने अभी तक किसी हमलावर की पहचान उजागर नहीं की है।

मोहम्मद इब्राहिम कोलंबो श्रीलंका का सबसे बड़ा मसाला निर्यातक हैं। कोलंबो के मुस्लिम समुदाय और पड़ोसियों का कहना है कि इब्राहिम राजधानी के सबसे समृद्ध परिवारों में से एक था और उनके देश भर के कारोबारी और राजनीतिक घरानों से परिवार के संबंध थे। यह परिवार गरीबों की अनाज और पैसे से मदद करने के लिए मशहूर था।

परिवार से जुड़े एक करीबी सूत्र ने बताया कि 31 वर्षीय इल्हम इब्राहिम खुले तौर पर अपनी कट्टर विचारधारा को जाहिर करता था। वह हमले की साजिश में शामिल बताए जा रहे आतंकी संगठन नेशनल तौहीद जमात की बैठकों में भी शामिल होता था। वहीं, इंसाफ के बारे में कहा जाता है कि वह ज्यादा उदार था। वह अपने स्टाफ और बाकी लोगों की मदद करता था। उसकी शादी एक पूंजीपति ज्वैलरी निर्माता की बेटी से हुई थी।

इब्राहिम के घर के सामने काम करने वाले 38 वर्षीय नेटवर्क केबलिंग इंजीनियर संजीवा जयसिंघे ने कहा कि इस घटना के बाद मैं सदमे में थी। मैंने कभी नहीं सोचा था कि ये इस तरह के लोग निकलेंगे।

Related News