Follow us:

होम्योपैथी औषधि से खुद को लू लगने से बचाए, आयुष विभाग ने बताए उपाय

धार। गीष्म ऋतु कों नौतपा प्रारंभ हो चुका है, इस समय में मौसम में परिवर्तन होगा और वर्तमान समय में तापमान बढने के साथ ही लू लगने की संभावना भी बढ गई है। लू से बचने के लिए आयुष विभाग ने जन समान्य को घर में रहने के साथ कुछ स्वास्थीय सलाह भी दी हैं। आयुष विभाग की होम्योपैथी औषधियों से हम अपने आप को लू से बचा सकते हैं। धार जिले के विभिन्न विभाग के अधिकतर अधिकरी कर्मचारी फील्ड पर कार्य कर रहे है, किसान अपनी फसलों को लेकर बाजार , मंडी में है, लगातार मजदूर वर्ग भी अपने घर पहुंचने के लिए पैदल ही चल रहे है। जिससे उनकों भी लू लगने का खतरा बना हुआ हैं। आयुष विभाग ने बताया कि आयुष होम्योपैथी की कुछ ऐसी कारागर दवाई है जो लू के खतरे को कम कर सकती है जैसे Bella, Glonine , Gels, Nat Mur, Nat Carb, Lach  Bryonia, Varatrum Alb, Varatrum Virid आदि।

आयुष विभाग के मेड़िकल ऑफिसर डाॅक्टर नरेंद्र नागर ने लू बचाव के लिए कुछ उपाय बताए जो इस प्रकार है -

यह है लू के लक्षण -

-चक्कर आना
-सिरदर्द
-तेज बुखार
-सास लेने में तकलीफ
-शरीर टूटना
-आँखे लाल होना
-हाथ पैर ढीले पडना
-दस्त लगना
-अधिक या कम पसीना आना आदि।

इन बातें की रखें सावधानियां -

-धूप में खाली पेट नही निकले
-खूब पानी पिये, तरल पदार्थ जैसे केरी का पन्ना, छाछ, ORS, ग्लूकोस, सतु आदि का उपयोग करे।
-सूती ढीले कपड़े पहने, सर को ढक कर रखे
-अशुद्ध और दूषित जल, भोजन का उपयोग न करे
-ताज बना हुआ भोजन करे
-गंदे सड़े गले खुले में रखे फल का उपयोग न करे।

 

 

Related News