Follow us:

अमरनाथ हादसा : अंतिम चरण में रेस्‍क्‍यू ऑपरेशन, अब तक 16 लोगो की मौत, दो दिन में बहाल हो सकती है यात्रा

नई दिल्‍ली। श्री अमरनाथ धाम में बादल फटने के कारण हुआ तबाही के बाद सेना का रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। रेस्क्यू ऑपरेशन अंतिम चरण में है। मृतक संख्या 16 है। अच्छी खबर यह है कि श्री अमरनाथ यात्रा को परिस्थितियों के आधार पर सोमवार या मंगलवार को बहाल किया जा सकता है। तीर्थयात्रियों के लिए यात्रा मार्ग को सुरक्षित बनाने और पवित्र गुफा के पास आवश्यक ढांचागत सुविधाओं की बहाली का काम जहां युद्धस्तर पर चल रहा है, वहीं स्थानीय भौगोलिक परिस्थितियां लगातार इस प्रक्रिया में नई चुनौतियां पेश कर रही हैं।

लेफ्टिनेंट कर्नल सचिन शर्मा ने बताया, राहत और बहाली का काम तेजी से चल रहा है। क्षतिग्रस्त बिजली, पेयजल व संचार व्यवस्था को दुरुस्त करने का काम किया जा रहा है. साथ ही लापता लोगों की तलाश भी जारी है। मार्ग की मरम्मत की जानी है, इसलिए यात्रा फिर से शुरू होने का सही समय नहीं बता सकता, लेकिन इसमें कम से कम दो दिन लग सकते हैं और यह मौसम पर निर्भर करेगा।

पवित्र गुफा के पास पेयजल और बिजली आपूर्ति का बुनियादी ढांचा बाढ़ के कारण लगभग क्षतिग्रस्त हो गया है। इसके अलावा वहां स्थापित संचार व्यवस्था भी क्षतिग्रस्त हो गई है। बाढ़ के पानी के साथ आया मलबा तंबू और लंगर के लिए निर्धारित हिस्से में फैल गया है। मलबा कई जगह छह से आठ फीट है। पंचतरणी से आगे यात्रा मार्ग में एक जगह नाले पर बना पुल भी बह गया है। पवित्र गुफा के नीचे कई जगहों पर कीचड़ जमा है, जिसे साफ करना पड़ता है। इसके अलावा कई जगहों पर यात्रा मार्ग भी क्षतिग्रस्त हो गया है, कई जगह फिसलन के कारण यह श्रद्धालुओं की आवाजाही के लिए सुरक्षित नहीं है।

उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने अमरनाथ तीर्थयात्रियों से शिविरों में रहने का आग्रह किया है। प्रशासन उनके बेहतर प्रवास के लिए सभी सुविधाएं उपलब्ध करा रहा है। हम जल्द से जल्द यात्रा फिर से शुरू करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों, उपायुक्तों और शिविर निदेशकों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि शिविरों में श्रद्धालुओं को बेहतर सुविधाएं मुहैया कराई जाएं।

 

Related News