Follow us:

दुनियाभर में कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों की संख्या बढ़कर एक लाख के पार हुई

बीजिंग। दुनियाभर में कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों की संख्या बढ़कर शनिवार को एक लाख के पार हो गई। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार चीन से फैले इस घातक वायरस के कारण चीन से निर्यात होने वाले सामानों पर बहुत बुरा असर पड़ा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने विषाणु का संक्रमण फैलने को ‘‘बेहद चिंता’’ का विषय बताया। कोरोना वायरस के कारण अब तक करीब 3,500 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 92 देशों में एक लाख से अधिक लोग इससे संक्रमित हैं। इस बीच, अमेरिका एक क्रूज जहाज में इस संक्रमण को काबू करने के लिए जद्दोजहद कर रहा है जहां 21 लोगों के नमूनों की जांच के परिणाम सकारात्मक पाए गए हैं। ‘ग्रैंड प्रिन्सेस’ बुधवार से सैन फ्रांसिस्को के पास फंसा हुआ है। बुधवार को पता चला था कि जहाज की पिछली यात्रा में दो लोग कोरोना वायरस से पीड़ित पाए गए हैं और इनमें से एक की बाद में मौत हो गई।

अमेरिका के उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने बताया कि जहाज को इस सप्ताहांत गैर-वाणिज्यिक डॉक पर लाया जाएगा, जहां सभी 3,533 यात्रियों और चालक दल के सदस्यों की जांच की जाएगी। पेंस ने शुक्रवार को कहा, ‘‘जिन लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है, उनमें से 19 चालक दल के सदस्य तथा दो यात्री हैं।’’ ‘ग्रैंड प्रिंसेस’ उसी ‘प्रिंसेस क्रूजेज’ कंपनी से संबंधित है जिसके जहाज को पिछले महीने जापान के पास रोक दिया गया था जिसमें 700 से अधिक लोग इस विषाणु से संक्रमित पाए गए थे। दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था चीन में इस वायरस के कारण व्यापार बुरी तरह बाधित हुआ है और वैश्विक आपूर्ति पर बुरा असर पड़ा है।

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार साल के पहले दो महीनों में चीन के निर्यात में 17.2 प्रतिशत की गिरावट आई है। डब्ल्यूएचओ प्रमुख टेड्रोस एदनोम गेब्रेयेसस ने संवाददाताओं से अपील की कि सभी देश इस बीमारी पर काबू पाने को उच्च प्राथमिकता दें। कोलंबिया और कोस्टारिका में संक्रमण के पहले मामले सामने आए हैं। अमेरिका के फ्लोरिडा में कोरोना वायरस से संक्रमित दो लोगों की मौत हो गई जिससे देश में संक्रमण से मौतों की संख्या 16 पहुंच गई। दक्षिण कोरिया में कोरोना वायरस के 7000 से अधिक मामले सामने आए हैं जो चीन के बाद सर्वाधिक हैं। ईरान में कोरना वायरस से शनिवार को 21 और लोगों की मौत हो गई जिससे मृतक संख्या बढ़कर 145 पर पहुंच गई। वहीं पिछले 24 घंटों में संक्रमण के 1076 मामले सामने आए हैं और देश में संक्रमितों की संख्या 5823 हो गई है।

इस बीच इटली ने 20,000 अतिरिक्त कर्मचारियों के साथ स्वास्थ्य सेवा प्रणाली को बढ़ावा देने के तत्काल प्रयासों के तहत शनिवार को सेवानिवृत्त डॉक्टरों की भर्ती शुरू की। चीन में शनिवार को पिछले कई हफ्तों में नए संक्रमण के सबसे कम मामले दर्ज हुए। चीन की सरकार ने संकेत दिया है कि वह जल्द ही हुबेई प्रांत पर लगाए गए पृथकता को हटा देगी। हुबेई प्रांत में जनवरी के अंत से लगभग पांच करोड़ 60 लाख लोग प्रभावी रूप से घरों में बंद हैं। लगातार दूसरे दिन प्रांत की राजधानी वुहान के बाहर हुबेई में कोई नया मामला दर्ज नहीं किया गया। इन प्रांतों के बाहर लगातार तीसरे दिन संक्रमण के मामलों में बढ़ोत्तरी देखने को मिली जिससे देश में विदेशों से आए लोगों में संक्रमण मिलने की आशंका बढ़ गई। अब तक विदेशों से आए 60 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है।

कई स्थानीय अधिकारी वायरस प्रभावित प्रांतों या देशों की यात्रा करने वाले किसी भी व्यक्ति को दो सप्ताह के लिए अलग-थलग कर दे रहे हैं। इस संक्रमण ने अंतरराष्ट्रीय व्यापार, पर्यटन और खेल को बुरी तरह प्रभावित किया है। दुनिया भर के लगभग 30 करोड़ छात्र स्कूल और कालेज बंद होने से प्रभावित हुए हैं। विश्व पर्यटन संगठन ने शुक्रवार को कहा कि अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों के आगमन की संख्या में इस वर्ष तेजी से गिरावट आने की संभावना है। कोरोना वायरस के प्रकोप से ऑस्टिन, टेक्सास और मियामी में कई समारोहों को रद्द करना पड़ा है। कोरोना वायरस का असर भारतीय फिल्म उद्योग के अंतरराष्ट्रीय भारतीय फिल्म अकादमी (आईफा) पुरस्कार के 20वें संस्करण पर भी पड़ा है और इसे फिलहाल महीने के अंत तक के लिए स्थगित करना पड़ा है।

वेटिकन में शुक्रवार को पहला मामला सामने आया था जिसके बाद यह घोषणा की गई कि पोप फ्रांसिस रविवार की प्रार्थना वीडियो के माध्यम से देंगे। बेथलहम में शुक्रवार को पहला संक्रमण का मामला मिला जिसके बाद शहर में बंद का माहौल है और पर्यटकों का वहां से निकलना मुश्किल हो गया है। लेकिन सऊदी अरब ने उमरा तीर्थयात्रा को कुछ समय तक स्थगित करने के बाद इस्लाम के सबसे पवित्र स्थल, मक्का के ग्रैंड मस्जिद में पवित्र काबा के आस-पास के क्षेत्र को फिर से खोल दिया। हालांकि काबा तक पहुंचने का मार्ग अवरुद्ध है और मस्जिद में दवाओं का छिड़काव किया जा रहा है। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने लोगों से यथासंभव यात्रा करने से परहेज करने का आग्रह किया। कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे की आशंका से निवेशक घबरा गए हैं जिससे शेयर बाजार और तेल की कीमतों में गिरावट आई है।

 

Related News