Follow us:

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर एंड्रयू साइमंड्स की कार दुर्घटना में मौत, क्रिकेट जगत में गम का माहौल

नई दिल्‍ली। ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर एंड्रयू साइमंड्स का 46 साल की उम्र में कार दुर्घटना में निधन हो गया है। हादसा ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड में शनिवार रात हुआ। जिस समय उनकी तेज रफ्तार कार सड़क दुर्घटना का शिकार हुईं, उस समय Andrew Symonds कार में अकेले थे। Andrew Symonds की असमय मौत से क्रिकेट जगत में गम का माहौल है। ऑलराउंडर Andrew Symonds ने 1998 से 2009 के बीच ऑस्ट्रेलिया के लिए 26 टेस्ट, 198 एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय और 14 ट्वेंटी-20 मैच खेले। इस साल की शुरुआत में पूर्व विकेटकीपर रॉड मार्श और महान स्पिनर शेन वार्न की मौत के बाद उनकी मृत्यु ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट के लिए एक और महत्वपूर्ण क्षति है।

Andrew Symonds’ last Instagram post

इंस्टाग्राम पर Andrew Symonds की आखिरी पोस्ट सभी को और भी ज्यादा भावुक कर देने वाली है। साइमंड्स की आखिरी पोस्ट उनके पूर्व ऑस्ट्रेलियाई साथी शेन वार्न की दुखद मौत के बारे में है। महान लेग स्पिनर का कुछ दिन पहले दिल का दौरा पड़ने के बाद निधन हो गया था। वार्न के साथ अपने खेल के दिनों की कुछ तस्वीरें पोस्ट करते हुए साइमंड्स ने अपने साथी की मौत पर दुख व्यक्त करते हुए लिखा था:

'शॉकिंग, मैं उम्मीद कर रहा हूं कि यह सब एक बुरा सपना है। मैं आपको फिर कभी नहीं देख सकूंगा। सभी वार्न परिवार को प्यार, मैं अवाक हूं।'

Andrew Symonds करियर प्रोफाइल

एक धाकड़ बल्लेबाज, कुशल गेंदबाज और बेहतरीन क्षेत्ररक्षक Andrew Symonds साइमंड्स अपने देश के लिए दो विश्व कप (वनडे) जीतने वाली टीम का हिस्सा रहे। यही नहीं, 2006-07 में इंग्लैंड पर ऑस्ट्रेलिया की एशेज जीत वाली टीटम का हिस्सा भी थे। बर्मिंघम में जन्मे Andrew Symonds ने यूके में केंट, ग्लॉस्टरशायर, लंकाशायर और सरे के लिए काउंटी क्रिकेट खेला। Andrew Symonds ने काउंटी चैंपियनशिप की एक पारी में सर्वाधिक छक्के मारने का संयुक्त रिकॉर्ड बनाया था।

Andrew Symonds एक दिवसीय क्रिकेट में अपने शानदार प्रदर्शन के लिए सबसे ज्यादा जाने जाते थे, जिसमें उन्होंने 39.75 की औसत से 5,088 रन बनाए और 133 विकेट भी लिए। उन्होंने 2006 के बॉक्सिंग डे एशेज टेस्ट में अपने दो टेस्ट शतकों में से पहला शतक बनाया, 156 रन बनाकर ऑस्ट्रेलिया ने एक पारी और 99 रन से जीत दर्ज की। लेकिन उनका करियर विवादों से भरा भी रहा। 2009 में उन्हें अनुशासनात्मक कारणों से इंग्लैंड में विश्व कप से घर भेज दिया गया, जिससे उनके अंतरराष्ट्रीय करियर का अंत हो गया। 2005 के इंग्लैंड दौरे के दौरान, कार्डिफ़ में बांग्लादेश के खिलाफ मैच में नशे में धुत होने के बाद उन्हें दो एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया था। अगस्त 2008 में उन्हें मछली पकड़ने जाने के लिए एक अनिवार्य टीम बैठक में लापता होने के बाद डार्विन में बांग्लादेश के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया की एक दिवसीय श्रृंखला से घर भेज दिया गया था।

 

Related News