Follow us:

विकास दुबे पर घोषित इनाम के लिए उज्जैन पुलिस नहीं भेजेगी प्रस्ताव

उज्जैन । विकास दुबे पर उत्तर प्रदेश पुलिस ने पांच लाख रुपये का जो इनाम घोषित किया था, उसे लेकर चर्चाएं जारी हैं। विकास उज्जैन के महाकाल मंदिर से पकड़ा गया था और उत्तर प्रदेश में उसका एनकाउंटर किया गया था। उज्जैन पुलिस के अधिकारियों का कहना है कि उनकी तरफ से इनाम को लेकर कोई प्रस्ताव नहीं भेजा जाएगा। अगर उप्र पुलिस जानकारी मांगेगी तो उन्हें सूचना देने वालों के बारे में जानकारी दी जाएगी।

उज्जैन में सबसे पहले सुरेश कहार द्वारा उसकी जानकारी देने की बात पुलिस ने मीडिया को भी बताई थी। वहीं, विकास के बारे में सबसे पहले जानकारी देने वाले फूल-प्रसाद व साड़ी दुकान संचालक सुरेश कहार व उसके स्वजन इस संबंध में अब कोई बात नहीं कर रहे हैं।

उनका कहना है कि वे सभी जानकारी पुलिस को दे चुके हैं। बता दें कि नौ जुलाई को सुबह 7.45 बजे गैंगस्टर दुबे महाकाल मंदिर आया था। यहां उसने फूल-प्रसाद व साड़ी दुकान चलाने वाले सुरेश कहार से दर्शन व्यवस्था के बारे में पूछा था। सुरेश न्यूज चैनल देखता था, इसलिए उसने विकास को पहचान लिया। इसके बाद उसने मंदिर के सुरक्षाकर्मी राहुल यादव को इसकी जानकारी दी थी। इसके बाद विकास दुबे को पकड़ लिया गया। बाद में स्थानीय पुलिस ने पंचनामा बनाकर उसे उप्र एसटीएफ के सुपुर्द कर दिया था।

पुलिस का कहना- उज्जैन में कोई कनेक्शन नहीं मिला

विकास की उज्जैन से गिरफ्तारी को लेकर पुलिस का कहना है कि दो दिन की जांच में यह स्पष्ट हुआ है कि गैंगस्टर का उज्जैन में कोई मददगार नहीं था। वह यहां अकेला ही आया था। शंका होने पर कई लोगों को हिरासत में लिया जरूर गया था, मगर पूछताछ सभी को छोड़ दिया गया। सूचना देने वाला बात करने से डर रहा विकास के बारे में सबसे पहले सूचना देने वाला सुरेश कहार अब मीडिया से कोई भी चर्चा करने से बच रहा है।

रविवार को उसके बेटे ने कहा कि उसके पिता से पुलिस कई बिंदुओं पर पूछताछ कर चुकी है। वे सारी जानकारी पुलिस को दे चुके हैं। अब कुछ नहीं कहना चाहते।

विकास के पास मिले थे 8100 रुपये, एक सोने की चेन व दो अंगूठी

विकास के पकड़े जाने के बाद जब पुलिस ने उसकी तलाशी ली तो उसकी जेब में 8100 रुपये मिले थे। इसके अलावा गले में सोने की चेन व हाथों में सोने की दो अंगूठियां थीं। एसपी मनोजसिंह के अनुसार विकास के साथ ही रुपये व अन्य सामान भी उप्र पुलिस को ही सौंप दिए गए थे।

Related News