Follow us:

इंदौर में फर्जी IMEI Number के सैकड़ों मोबाइल पकड़ाए, आतंकियों तक पहुंचने का शक

इंदौर। फर्जी आईएमईआई पर सैकड़ों मोबाइल चलने का मामला सामने आया है। क्राइम ब्रांच की तकनीकी एक्सपर्ट टीम को जांच सौंपी गई है। अभी तक कई मोबाइल बरामद कर लिए गए हैं। पुलिस इस दिशा में भी जांच कर रही है कि फर्जी आईएमईआई वाले मोबाइल आतंकियों और अन्यदेशद्रोही गतिविधियों में लिप्त लोगों तक तो नहीं पहुंचे हैं। आईजी विवेक शर्मा के मुताबिक कार्रवाई गुप्त सूचना पर की जा रही है। एक ऐसे गिरोह के बारे में जानकारी मिली है जो नामी मोबाइल कंपनी की इंटरनेशनल मोबाइल इक्यूपमेंट आईडेंटिटी (आईएमईआई) बदल कर बाजारों में बेच देता है। जिन मोबाइल की आईएमईआई बदली गई है वह चोरी और ट्रक कटिंग के हैं। इनमें सैकड़ों मोबाइल ऐसे हैं जिनकी एक ही आईएमईआई है।

आईजी ने क्राइम ब्रांच को सूची सौंप कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। दो दिन के भीतर क्राइम ब्रांच ने 40 लोगों को चिन्हित कर मोबाइल भी जब्त कर लिए। एएसपी(क्राइम) अमरेंद्रसिंह के मुताबिक अभी लोगों को बुलाकर मोबाइल की जांच की जा रही है, बदले में उन्हें जब्ती की रसीद दी जा रही है। आईजी ने इसके पूर्व भी जबलपुर में ऐसे हजारों मोबाइल ट्रेस किए थे जो एक ही आईएमईआई पर चल रहे थे। उन्होंने जयंती कॉम्पलेक्स से प्रदीप ठाकुर को गिरफ्तार भी किया था।

मोबाइल खरीदने वाले दुकानदार भी गिरफ्तार

विजयनगर थाना पुलिस ने भी राहगीरों से मोबाइल छीनने और चोरी के मोबाइल खरीदने वाले गिरोह के 9 लोगों को गिरफ्तार किया है। इन पर डकैती, शराब तस्करी और चोरी का सामान खरीदने की धाराओं में प्रकरण दर्ज किया है। पुलिस के मुताबिक आरोपितों में शुभम, मौसम, सचिन ने करीब 50 लोगों के मोबाइल लूटे हैं। आरोपित सफेद रंग की चोरी की बाइक से वारदात करते थे। पूछताछ में इन लोगों ने साथियों के नाम कबूले हैं। मौसम (कामधेनूनगर), अभिषेक रघुवंशी(बाणगंगा), शुभम कुशवाह(कृष्णबाग), सचिन(अनिलनगर), चंद्रकांत(मेघदूतनगर), मोबिन(अहिल्या पल्टन), शुभम(राज मोहल्ला) को गिरफ्तार कर लिया। इनसे पूछताछ के आधार पर जेल रोड के दुकानदार शाहरूख और अक्षय को भी पकड़ा गया है।