Follow us:

मोदी सरकार के खिलाफ कांग्रेस के #SpeakUpIndia अभियान में सोनिया गांधी ने कहा- गरीबों के लिए खजाना खोले सरकार

सोनिया गांधी ने कहा हम केंद्र सरकार से आग्रह करते हैं कि वह खजाने का ताला खोले और जरूरतमंदों को राहत दें. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी सरकार से कैश ट्रांसफर के जरिए गरीबों की तत्काल आर्थिक मदद करने की मांग की.

नई दिल्ली। केंद्र की मोदी सरकार पर लॉकडाउन की मार झेल रहे गरीबों के प्रति असंवेदनशील होने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मांग की है कि सरकार अपना खजाना खोले और जरूरतमंदों की मदद करे. सोनिया गांधी ने ये बातें कांग्रेस के 'स्पीक अप इंडिया' अभियान के लिए वीडियो संदेश जारी कर कही.

कोरोना महामारी के कारण ठप पड़ी अर्थव्यवस्था से संकट में घिरे मजदूर, किसानों, असंगठित क्षेत्र के कामगार, छोटे दुकानदारों को सीधी आर्थिक मदद की मांग करने के लिए कांग्रेस ने सोशल मीडिया पर 'स्पीक अप इंडिया' ऑनलाइन अभियान चलाया जिसमें पार्टी के बड़े नेताओं से लेकर छोटे कार्यकर्ताओं ने मांगों को जोर शोर से उठाया. कांग्रेस सोशल मीडिया टीम के मुताबिक फेसबुक, ट्विटर जैसे विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर देशभर में 50 लाख से ज्यादा कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने इस अभियान में हिस्सा लिया.

पार्टी की मुख्य मांगों को लेकर जारी बयान में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि "हमारा केंद्र सरकार से फिर आग्रह है कि खजाने का ताला खोलिए और जरूरत मंदों को राहत दीजिये. हर परिवार को छः महीने के लिए 7,500 रुपए प्रतिमाह सीधे कैश भुगतान करें और उसमें से 10,000 रूपए फौरन दें. मजदूरों को सुरक्षित और मुफ्त यात्रा का इंतजाम कर घर पहुंचाइये और उनके लिए रोजी रोटी का इंतजाम भी करें और राशन का इंतजाम भी करें. महात्मा गांधी नरेगा में 200 दिन का काम सुनिश्चित करें जिससे गांव में ही रोज़गार मिल सके. छोटे और लघु उद्योगों को लोन देने की बजाय आर्थिक मदद दीजिये, ताकि करोड़ों नौकरियां भी बचें और देश की तरक्की भी हो."

मोदी सरकार पर असंवेदनशील होने का आरोप लगाते हुए सोनिया गांधी ने कहा "पिछले 2 महीने से पूरा देश कोरोना महामारी की चुनौती और लॉकडाउन के चलते रोजी-रोटी-रोजगार के गंभीर आर्थिक संकट से गुजर रहा है. देश की आजादी के बाद पहली बार दर्द का वो मंजर सबने देखा कि लाखों मजदूर नंगे पांव, भूखे-प्यासे, बगैर दवाई और साधन के सैकड़ों-हजारों किलोमीटर पैदल चल कर घर वापस जाने को मजबूर हो गए. उनका दर्द, उनकी पीड़ा, उनकी सिसकी देश में हर दिल ने सुनी, पर शायद सरकार ने नहीं."

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सबसे अपील की कि ऐसे मुश्किल वक्त में राजनीतिक मतभेद भुला कर लोगों की मदद करनी चाहिए. हालांकि प्रियंका ने यूपी बस विवाद का जिक्र कर बीजेपी पर महामारी के वक्त राजनीति करने का आरोप लगया. इसके साथ ही उन्होंने बीजेपी पर महाराष्ट्र सरकार को गिराने की कोशिश करने का आरोप लगाया.

कांग्रेस के इस अभियान के जवाब में बीजेपी ने कांग्रेस पर राजनीति करने का आरोप लगाया है.

 


Related News