Follow us:

कोरोना वायरस : इंदौर में देर रात 83 नए पाॅजीटिव मिले, संक्रमितों की संख्या 2933, 111 की अब तक जा चुकी है जान

जिले में 111 ने अब तक दम तोड़ा, 1381 लोग कोरोना को हराकर अपनों के बीच लौटे

28351 लोगों की जांच रिपोर्ट अब तक आई, 1451 लोग अलग-अलग अस्पताल में भर्ती

इंदौर। शहर में शुक्रवार रात को 83 नए मरीज मिले, जबकि 2 की मौत हो गई। इसके साथ ही शहर में कुल संक्रमित 2933 हो गए हैं। मृतकों का आंकड़ा 111 पर पहुंच गया है। शुक्रवार को 926 सैंपल में से 841 की रिपोर्ट निगेटिव आई है। इधर, 102 मरीज डिस्चार्ज भी हुए। अब तक जिले में 1381 लोग कोरोना को हराकर अपने घर लौट चुके हैं। इस सबके बीच कलेक्टर ने साफ कर दिया है कि शाम 7 बजे बात शहर में और सख्ती होगी। जरूरी सेवाओं को छोड़कर किसी को भी बाहर निकलने की परमिशन नहीं है। यहां तक की शाम 7 बजे बाद होम डिलीवरी भी नहीं होगी।

रिपोर्ट के अनुसार शहर में अब तक 28351 लोगों की जांच रिपोर्ट आ चुकी है। इनमें से 2933 संक्रमित पाए गए हैं। शहर में अब भी 1451 लोग अलग-अलग अस्पताल में भर्ती होकर कोरोना का इलाज करवा रहे हैं। गार्डन और होटल में क्वारैंटाइन किए गए 2608 लोगों को घर रवाना कर दिया गया है। इसके पहले शुक्रवार को इंडेक्स मेडिकल कॉलेज से 57 और अरबिंदो अस्पताल से 45 मरीज घर लौटे। इंडेक्स के एडिशनल डायरेक्टर आरसी यादव ने बताया, अब तक इलाज के बाद स्वस्थ होकर 400 से ज्यादा मरीज घर जा चुके हैं।

अब शाम 7 बजे बाद होम डिलीवरी बंद
शहर में अब शाम 7 बजे बाद सख्ती से कर्फ्यू लागू होगा। सुबह 7 से शाम 7 बजे तक जिन लोगों, बाजारों और उद्योगों को छूट दी गई है, उन पासधारियों के अलावा अन्य लोगों की आवाजाही नहीं होगी। कलेक्टर मनीष सिंह के मुताबिक, होम डिलीवरी शाम 7 बजे बाद नहीं की जा सकेगी। सिर्फ नगर निगम, बिजली विभाग, दवा बिक्री से जुडे लोग, डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी, कानू्न-व्यवस्था से जुड़े लोग आवश्यक सेवा वाले प्रतिबंध से मुक्त रहेंगे। इसके अलावा जारी पास भी शाम 7 बजे बाद स्थगित रहेंगे। लोहा मंडी, ट्रांसपोर्ट नगर, मैकेनिक नगर में भी सारी गतिविधि दिन में तय समय में हो सकेंगी।

जज भी पहुंचे बायपास, मजदूरों को चने-रेवड़ी व जूते-चप्पल बांटे
इंदौर बायपास स्थित राऊ सर्कल पर हाई कोर्ट जज जस्टिस प्रकाश श्रीवास्तव भी मजदूरों की मदद करने पहुंचे। उन्होंने बिस्किट, पानी की बोतल, चने, रेवड़ी के पैकेट दिए। जूते, चप्पल भी वितरित किए। उनके साथ कई अपर सत्र न्यायाधीश, सीजेएम भी थे। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव एडीजे मनीष श्रीवास्तव के मुताबिक पांच दिन से बायपास पर सामग्री बांटी जा रही है।

 

Related News